रेवाड़ी (आकाश सोनी): खसरा व रूबेला की बीमारी के बचाव के लिए एमआर अभियान 25 अप्रैल से प्रदेश भर में शुरू किया जाएगा। प्रधान सचिव स्वास्थ्य विभाग अमित झा व एनएचएम मिशन डायरेक्टर पी. अमनीत ने बुधवार को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से स्वास्थ्य, शिक्षा व अन्य विभागों के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि जिले में यह प्रोग्राम 25 अप्रैल से शुरू किया जाएगा।

जिसमें पहले दो सप्ताह तक सभी स्कूलों में एमआर वैक्सिन का 15 साल तक के बच्चों या दसवीं कक्षा में पढ़ रहे बच्चों के स्कूल में ही टीकाकरण किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग की टीमों द्वारा इसके पश्चात अगले दो सप्ताह तक सभी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के साथ गांव में सत्र लगाकर सभी 15 साल तक के बच्चों को टीकाकरण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि यह टीका बच्चों को खसरा और रूबेला से बचाव करेगा। इस एमआर वैक्सिन का कोई साईड ईफेक्ट नहीं है तथा यह पूर्ण रूप से सुरक्षित है।अमित झा ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि इस बारे में स्कूलों में विस्तारपूर्वक जानकारी दी जाए ताकि कोई भी बच्चा इस गंभीर बीमारी के टीके से वंचित न रहे। इस प्रोग्राम में अगर कोई स्कूल इस अभियान में सहयोग नहीं करता है तो उसके खिलाफ कार्यवाही करें। 31 मार्च तथा उसके बाद सभी स्कूलों में अभिभावकों व बच्चों को इस बारे में जागरूक करने के लिए विशेष कैंप लगाए जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि इस अभियान के दौरान स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों में छुट्टियां रद रहेगी।

एनएचएम मिशन डायरेक्टर पी. अमनीत ने बताया कि खसरा एक वायरल बीमारी है, खसरा का टीका भी अभी तक नौ माह व डेढ साल में लगाया जाता है। उन्होंने बताया कि खसरा का टीका न लगवाने के कारण अंधापन, दिमागी बुखार, निमोनिया इत्यादि बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है। रूबेला एक गंभीर वायरल बीमारी है, जिसकी वैक्सिन अभी तक नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल नहीं थी। रूबेला के कारण नवजात शिशुओं में जन्मजात विकृतियां जैसे कि दिल की बीमारी, मोतिया¨बद, मानसिक विकास में कमी आदि बीमारियां हो जाती है। रूबेला का संक्रमण गर्भावस्था के दौरान पहले तीन महीनों में मां के गृभ में पल रहे बच्चे को होने के ज्यादा कारण है। इस अवसर पर एडीसी प्रदीप दहिया, सिविल सर्जन डॉ. कृष्ण कुमार, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. भंवर ¨सह, डीईईओ सुरेश गोरिया, डिप्टी डीईओ चंद्र प्रकाश, प्राईवेट स्कूल एशोसिएशन के प्रधान डॉ. सूर्य कमल, पीओआईसीडीएस लत्ता शर्मा, डॉ. दलीप, अमित कुमार व आइएमए अध्यक्ष्ज्ञ डॉ. करतार ¨सह यादव सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।