भारत सरकार का एम.एस.एम.ई मंत्रालय हाथ कागज उद्योग के विकास हेतु तत्पर : जी. बिल्ला
    क्लास्टर योजना का लाभ उद्यमी उठायें
    जी.एस.टी एवं विद्युत दरें कम करने हेतु भारत सरकार के एम.एस.एम.ई को लिखा जावेगा
रिपोर्ट – ऱाहुल कुमार गुप्ता
कालपी (जालौन)। कालपी के हस्त निर्मित कागज के विकास हेतु अत्याधुनिक तकनीकि के इस्तेमाल हेतु भारत सरकार के एम.एस.एम.ई विभाग के डिप्टी डायरेक्टर जी. ल्लि दुरई तथा सहायक निदेशक एस.के पाण्डेय तथा उनके सहयोगी के.पी शील, शंखवार ने हाथ कागज उद्यमियों से क्लास्टर योजना को अपनाने हेतु प्रेरित करते हुये कहा कि क्लास्टर योजना के माध्यम से भारत सरकार एवं उ0प्र0 सरकार उद्यमियों की भरपूर आर्थिक सहायता करने को तैयार है।
    कालपी स्थित इण्डस्ट्री एरिया में उ0प्र0 हाथ कागज निर्माता समिति के अध्यक्ष पं. नरेन्द्र कुमार तिवारी की फैक्ट्री में उपस्थित उद्यमियों को संबोधित करते हुये डिप्टी डायरेक्टर श्री बिल्ला दुरई ने बताया कि क्लास्टर योजना छोटे-छोटे उद्यमियों के लिये लाभप्रद है भारत सरकार उन उद्यमियों को जो समूह में एकत्रित होकर नयी टैक्नोलोजी, नयी मशीनें आदि का उपयोग करके हाथ कागज का विकास करना चाहते है उनके लिये करोड़ों रुपयें की आर्थिक सहायता देगी।
    इस मौके पर सहायक निदेशक उद्योग एस.के पाण्डेय ने क्लास्टर के महत्व को समझाते हुये कहा कि जितने जल्दी समूह का गठन हो जावेगा, उतने ही जल्दी सरकार करोड़ों रुपयें आपको उपलब्ध करायेगी।
    इस मौके पर पं. नरेन्द्र कुमार तिवारी ने भारत सरकार को भेजने हेतु मांग पत्र दिया, जिसे लेते हुये अधिकारियों ने कहा कि इस मांग पत्र को भारत सरकार के एम.एस.एम.ई उद्योग को भेजा जावेगा जिससे जी.एस.टी तथा विद्युत दरों की समस्याओं का निराकरण हो सकें। इस मौके पर कुलदीप शर्मा, हाजी सलीम खां, चिरौंजीलाल, शिवकुमार शर्मा, नवीन गुप्ता, भोला शर्मा, नईम खां, गौरव शुक्ला, विनीत गुप्ता, अकाश माथुर, कन्हैंया सहित कई उद्यमियों ने उक्त विकास गोष्ठी में भाग लिया।