ब्यूरो रिपोर्ट NtvTime
बहराइच। तीन दशकों से आबादी की जमीन पर घर बनाकर रह रहे व्यक्ति का दबंगों ने लेखपाल से साजिश कर मड़हे को गिरा दिया तथा उस पर कब्जा करने की कोशिश में लगे हुए है। पीडि़त की शिकायत पुलिस नहीं सुन रही है। उल्टा उसे ही प्रताडि़त करने में लगी हुई है। पीडि़त ने मामले में ग्रामीणों के साथ कलेक्टेªट व एसपी कार्यालय पर प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन अधिकारियों को सौंपा। जिसमें पुलिस उत्पीड़न रोकने व दबंगों से जमीन बचाने की गुहार लगायी है। मामला थाना हुजूरपुर का है। जहां पुरैनीडीहा निवासी नानाबाबू पुत्र रामसेवक का कहना है कि वह आबादी की जमीन पर 1982 से मड़हा रखकर निवासरत है। जिसे गांव के दबंग विनय, भद्दू ने हल्का लेखपाल के साथ मिलकर उसके मड़हे को गिरा दिया तथा उस जमीन पर कब्जा करने की फिराक में है। पीडि़त का कहना है कि विनय ने अपनी कुछ जमीन भद्दू को बैनामा किया है। जिस पर वह अपने गाटा की बैनामा की जमीन कब्जा न कर उसकी जमीन को हथियाना चाहता है। पीडि़त का कहना है  िकवह मामले में दो बार थानाध्यक्ष हुजूरपुर व समाधान दिवस तथा जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र दे चुका है पर दबंगों की हनक के आगे अधिकारी व पुलिस बेबस है। पीडि़़त का कहना है कि 100 नम्बर पुलिस उसे परेशान कर रही है। बीते 6 अक्टूबर को उसे पकड़कर ले गई तथा पैसों की मांग की। जबकि इससे पूर्व उसने थाने पर शिकायत की तो उसे 117, 116 की कार्रवाई पुलिस द्वारा कर दी गई। पीडित ने यह भी बताया कि थाना हुजूरपुर पुलिस द्वारा जबरन 6 अक्टूबर को रात्रि 10 बजे सादे कागज पर यह लिखवा लिया गया कि कब्जा हटा लो तब उसको थाने से छोड़ा गया। उसने बताया कि योगी सरकार में गरीब की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। पीडि़त द्वारा डीएम व एसपी को सौंपी गई शिकायत में मांग की है कि गाटा सं. 787 की पैमाइश कराकर उस जमीन को अलग किया जाये तथा स्वयं द्वारा 1982 से आबादी की जमीन पर जबरन कब्जा करने से दबंगों को रोका जाये। विनय व भद्दू जिन्होंने उनका मड़हा गिराया है उनके विरूद्ध कानूनी कार्रवाई की जाये। हुजूरपुर पुलिस द्वारा जबरन सादे कागज पर कब्जा हटवाने व लिखवाने तथा 100 नम्बर पुलिस द्वारा उत्पीड़न को रोका जाये। पीडि़त का कहना है कि यदि आगामी 14 अक्टूबर तक कार्रवाई न की गई तो वह कलेक्ट्रेट स्थित धरना स्थल पर अनशन शुरू कर देगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here