नवरात्र के नौ दिन माता दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। आज यानि नवरात्र के दूसरे दिन मां के द्वितीय स्वरूप मां ब्रह्मचारिणी की पूजा का विधान माना जाता है। इनकी पूजा से भक्तों और सिद्धों को अनंतफल प्राप्त होता है, क्योंकि इनको सिद्धि और विजय प्रदान 4करने वाली देवी माना जाता है। इसके अतिरिक्त विद्या प्राप्ति के लिए भी  माता ब्रह्मचारिणी की उपासना की जाती है। तो आइए आज हम आपको बताएंगे क्या है विद्याप्राप्ति के खास उपाय इसके साथ ये भी जानेंगे कि कौन सा है मां का विद्याप्राप्ति का विशेष मंत्र।
PunjabKesari
ब्रह्मचारिणी का विद्यामंत्र-
मंत्र-
या देवी सर्व भूतेषु, विद्या रूपेण संस्थिता।।
नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमो नमः।।
PunjabKesari
इन स्पेशल उपाय के साथ करें विद्यामंत्र का जाप-

विद्या प्राप्ति के लिए चमेली या किसी भी सफ़ेद फूल को 6 लौंग और एक टुकड़े कपूर के साथ
PunjabKesari
” या देवी रूप देवी सर्वभूतेषु विद्यारूपेण संस्थिता
नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमो नम: ”

पढ़ते हुए 45 आहुतियां रोज़ाना मां भवानी यानि मां दुर्गा के सामने देने से उत्तम विद्या प्राप्त होती है।
PunjabKesari
अगर पढ़ाई में कमज़ोर बच्चे के सिर से पैर तक एक धागा नाप कर तोड़ लें अब इस मंत्र का उच्चारण करते हुए इस धागे को 45 गांठे लगा दें और इसे माता को समर्पित करके बच्चे से नवरात्र भर इस धागे से मंत्र जाप करवाएं। नवरात्र की नवमी को इस धागे को जल में प्रवाहित कर दें।
PunjabKesari
इसके अलावा विद्या प्राप्ति के लिए 108 विद्यामंत्र का जाप करें और किसी ब्रह्माण के बच्चे को भोजन कराएं। 7 दिन लगातार ऐसा करने से बालक मेधावी हो जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here