कमलनाथ (फाइल)।
  • मायावती ने चेतावनी दी थी- भारत बंद के दौरान मप्र -राजस्थान में लगे केस वापस ले सरकार, नहीं तो समर्थन पर दोबारा विचार करेंगे
  • मध्यप्रदेश कानून मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि भारत बंद की तरह पिछले 15 सालों में राजनीतिक मंशा के तहत लगे केस वापस लेंगे
  • एससी-एसटी कानून पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ अप्रैल में दलितों ने भारत बंद बुलाया था
  • इस दौरान 12 राज्यों में हिंसा हुई, सबसे ज्यादा असर मप्र, राजस्थान, उप्र और बिहार में था, 14 लोगों की मौत भी हुई

 

भोपाल.  बसपा प्रमुख मायावती की चेतावनी के बाद कमलनाथ सरकार ने 2 अप्रैल को भारत बंद के दौरान एससी-एसटी समुदाय के लोगों पर दर्ज किए गए केस वापस लेने का फैसला किया है। मायावती ने सोमवार को राजस्थान और मध्यप्रदेश सरकार से भारत बंद के दौरान एससी-एसटी समुदाय के लोगों पर दर्ज किए गए मुकदमों को वापस लेने की मांग की थी। उन्होंने ऐसा न होने पर मप्र और राजस्थान में कांग्रेस सरकारों से समर्थन पर दोबारा विचार करने की चेतावनी भी दी थी।

मध्यप्रदेश कानून मंत्री पीसी शर्मा ने दो अप्रैल 2018 में भारत बंद और दलित हिंसा के बाद लगाए गए केस वापस लेने ऐलान किया। उन्होंने कहा कि भारत बंद की तरह पिछले 15 सालों में भाजपा सरकार की ओर से कार्यकर्ताओं पर राजनीतिक मंशा के तहत लगाए गए सभी केस वापस लिए जाएंगे। हालांकि, तीन दिन पहले ही शर्मा ने कहा था कि राज्य में भाजपा सरकार के दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर दर्ज हुए राजनीतिक मुकदमे वापस लिए जाएंगे।

2 अप्रैल को 12 राज्यों में हुई थी हिंसा

मार्च में सुप्रीम कोर्ट ने एससी-एसटी कानून में कुछ बदलाव किया था। इसके विरोध में दलित संगठनों ने 2 अप्रैल को भारत बंद बुलाया था। इस दौरान मध्यप्रदेश, राजस्थान, उत्तरप्रदेश और बिहार समेत 12 राज्यों में हिंसा फैली थी। इस दौरान 14 लोगों की मौत भी हुई थी। हिंसा के बाद प्रशासन ने दलित संगठनों के कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज किए थे।

मप्र-राजस्थान में बसपा ने कांग्रेस को दिया समर्थन
मध्यप्रदेश में कुल 230 विधानसभा सीटें हैं। यहां कांग्रेस ने 114 सीटों पर जीत हासिल की। बहुमत के लिए 116 सीटें चाहिए। ऐसे में कांग्रेस ने 3 निर्दलीय, 2 बसपा और 1 सपा के विधायक के समर्थन से सरकार बनाई है। वहीं, राजस्थान में कांग्रेस ने 99 सीटें जीतीं। यहां बहुमत के लिए 100 सीटों की जरूरत थी। कांग्रेस ने बसपा के साथ गठबंधन किया। बसपा के यहां 6 विधायक हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here