दतिया।
स्वच्छ भारत मिशन के तहत दतिया शहर को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए नगर पालिका क्षेत्र में शौचालय बिहीन घरों को चिंहित कर ऐसे हितग्राहियों के घरों में 12240 रुपए की राशि से व्यक्तिगत शौचालय का निर्माण नगर पालिका द्वारा हितग्राहियों को दो किश्तों में राशि उपलब्ध करवा कर कराया जा रहा है। इसमें प्रावधान है कि हितग्राही पहली किश्त से शौचालय निर्माण के लिए अपेक्षित कार्य पूर्ण करे तब उसे द्वितीय किश्त की राशि दी जाएगी। दोनों ही स्टेज पर कार्य का स्थल निरीक्षण कर उपयंत्री अपनी टीप अंकित कर संबंधित शाखा को सूचित करेंगे तब शेष राशि रिलीज की जाएगी। पर नगर पालिका उपयंत्रियों द्वारा शहर में चल रहे अन्य विकास कार्यों का स्थल निरीक्षण न करने की आदत की तरह ही शहर के सभी 36 वार्डो में बन रहे व्यक्तिगत शौचायलों की प्रगति का स्थल निरीक्षण नहीं किया जा रहा है। बल्कि निरीक्षण टीप ऑफिस में बैठकर ही लगाई जा रही है।
ताजा मामला शहर के सायनी मौहल्ला की मुबारक गली का है। यहां हितग्राही रमेश और उसके लड़के रोशन ने अपने मकान में व्यक्तिगत शौचालय का निर्माण कराया। एक ही शौचालय के दो अलग-अलग प्रकरण तैयार करवा कर अलग-अलग हितग्राही बनकर नपा से पहली किश्त प्राप्त कर ली तथा दूसरी किश्त प्राप्त करने के लिए उपयंत्री से कार्यपूर्णता की टीप अंकित करवा कर फाइल विभाग के ऑफिस में जमा करवा दी है। यह स्थिति नगर पालिका उपयंत्री द्वारा मौके पर जाकर स्थल निरीक्षण नहीं करते हुए ऑफिस में बैठकर स्थल निरीक्षण टीप अंकित करने के कारण उन्पन्न हुई। सायनी मौहल्ला मुबारक गली निवासी रमेश महज उदाहरण है। इस तरह के कई प्रकरण शहर के हर वार्ड में मौजूद है। जबकि कई हितग्राही ऐसे भी है जिन्होंने पहली किश्त की राशि से कार्य पूर्ण कर लिया पर उनके कार्य की प्रगति टीप उपयंत्री द्वारा संबंधित शाखा में नहीं दी गई जिससे उनकी द्वितीय किश्त रिलीज नहीं हो पा रही है।
शहर में 1800 हितग्राहियों के मकानों में बनने है व्यक्तिगत शौचालय-
शहर में करीब 1800 हितग्राहियों के मकानों में व्यक्गित शौचालयों का निर्माण होना है। प्रथम चरण में 541 व्यक्तिगत शौचालय ठेकेदार द्वारा बनाए गए बाद में व्यवस्था में तब्दील कर हितग्राहियों को ही व्यक्तिगत शौचालय बनाने की जिम्मेदारी दे दी गई। हितग्राहियों को शौचालय निर्माण के लिए शासन की योजना से कुल 12240 रुपए, दो किश्तों 6120-6120 रुपए में देने का प्रावधान है। पहली किश्त प्राप्त होने के बाद हितग्राही द्वारा शौचालय निर्माण की अपेक्षित प्रगति होने संबंधी उपयंत्री की स्थल निरीक्षण टीप के आधार पर द्वितीय किश्त रिलीज की जाती है।
पूर्व में हितग्राहियों के मकानों में शौचालय निर्माण का काम ठेकेदार को सौंपा गया था बाद में व्यवस्था बदलकर हितग्राहियों को ही शौचालय बनाने के लिए राशि दो किश्तों में दी जाने लगी।
दूसरी किश्त न मिलने से अधूरा रह गया शौचालय निर्माण
राजीव नगर सेंवढ़ा चुंगी निवासी सीताराम दास के मकान में स्वच्छ भारत मिशन के तहत व्यक्तिगत शौचालय का निर्माण कराया जा रहा है। सीताराम का कहना है कि नगर पालिका से शौचालय निर्माण के लिए पहली किश्त ही मिली है। दूसरी किश्त प्राप्त नहीं हो पाने के कारण शौचालय का निर्माण अधूरा रह गया है।
परिषद की बैठक में भी उठ चुका मामला
शहर में स्वच्छ भारत मिशन के तहत हितग्राहियों के मकानों में बन रहे व्यक्तिगत शौचालयों की प्रगति से संबंधित निरीक्षण टीप उपयंत्रियों द्वारा समय पर संबंधित शाखा में उपलब्ध नहीं कराने पर हितग्राहियों को द्वितीय किश्त रिलीज करने में परेशानी आती है। यह मामला नगर पालिका परिषद की बैठक में निर्माण शाखा प्रभारी राजेश दुबे कई बार उठा चुके हैं। यहीं नहीं निर्माण शाखा द्वारा उपयंत्रियों को पत्र जारी कर स्थल निरीक्षण रिपोर्ट प्रस्तुत करने को भी कहा गया ताकि हितग्राहियों को द्वितीय किश्त रिलीज की जा सके। बावूजद उपयंत्रियों द्वारा शहर में चल रहे निर्माण कार्यों का स्थल पर जाकर निरीक्षण नहीं किया जा रहा है। यही स्थिति सीवर व वाटर प्रोजेक्ट के तहत चल रहे निर्माण कार्यों की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here