आनंद व्यास

गुना/रमजान माह में किसान आंदोलन की सूचना ने पुलिस, प्रशासन अभी से सचेत है। उनका मानना है कि इसकी आड़ में कोई असामाजिक तत्व हरकत न कर दें, इसके लिए उन्होंने पुख्ता इंतजाम किए हैं। हालांकि इसकी कोई तारीख तय नहीं है, लेकिन इससे पहले 600 से ज्यादा लोगों को बाउंड ओवर(बॉन्ड) किया जा चुका है। थानों में आंसू गैस के गोले, पेट्रोलिंग के लिए वाहन और ग्वालियर से अतिरिक्त बल तक आ चुका है। पुलिस पूरी तैयारी से है, एसपी निमिष अग्रवाल ने साफ तौर पर कहा है कि जो भी कानून हाथ में लेगा सख्ती से कार्रवाई होगी। पिछली साल 1 से 10 जून के बीच किसान आंदोलन के दौरान मालवा और निमाड़ में हिंसा भड़की थी, मंदसौर में गोलीकांड में 6 लोगों की मौत हो गई थी। इस घटना को एक साल पूरा होने को हैं, सूचना मिली है कि प्रदेश के कई जिलों में फिर आंदोलन हो सकता है। इस वजह से सतर्कता बरती जा रही है। खुफिया तंत्र से सूचना मिली है कि किसान संगठन इस बार फिर आंदोलन करने जा रहे हैं। इस पवित्र माह रमजान चल रहा है ऐसे में आंदोलन होता है तो असामाजिक तत्व माहौल खराब कर सकते हैं। इसलिए पुलिस, प्रशासन नजर रखे हुए है। एसपी ने भी पिछले दिनों अफसरों की बैठक बुलाई, उसने कहा कि नजर रखें। वहीं जिले में भी खुफिया तंत्र की मदद ली जा रही है। कई लोगों से संपर्क कर यह जानने की कोशिश कर रहा है कि जिले में आंदोलन कब होगा। इस बारे में पुलिस मीडिया और नेताओं के संपर्क में भी है। वो उनसे भी किसान आंदोलन की हर अपडेट जानना चाह रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here