दीपक तिवारी:
भोपाल। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा मंदसौर में किसानों का कर्ज माफ करने की घोषणा के बाद मप्र की किसान हितैषी शिवराज सरकार की मुश्किलें बढ़ गई हैं। खबर है कि राहुल के ऐलान के बाद राज्य सरकार ने 10 जून को जबलपुर में मुख्यमंत्री द्वारा की जाने वाली घोषणाओं को फिर से तैयार किया जा रहा है। जिसमें किसानों के लिए बड़ी सौगात हो सकती है। हालांकि कर्जमाफी जैसी कोई घोषणा फिलहाल नहीं होने वाली है।
रविवार को प्रदेश भर में तहसील से लेकर प्रदेश मुख्यालय तक किसान सम्मेलनों का आयोजन होगा। इन सम्मेलनों को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लाइव संबोधित करेंगे। मुख्य सम्मेलन जबलपुर में होगा। जिसमें मुख्यमंत्री कांग्रेस पर पलटवार के साथ-साथ किसानों के लिए अब तक बनाई गई योजनाओं को गिनाएंगे। साथ ही दो या तीन नई घोषणाएं भी कर सकते हैं, इन घोषणाओं के जरिए सरकार किसानों को सीधे लाभाविंत कर सकती है। हालांकि अभी घोषणाओं का फाइनल चार्ट तैयार नहीं हुआ है। शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान किसानों के लिए की जाने वाली घोषणाओं पर मंथन करेंगे। बताया गया कि मप्र सरकार चुनाव से पहले किसानों को बांटकर (लहसुन, गन्ना, गेहूं, चना, दूध, सब्जी उत्पाक किसान)घोषणाएं करेगी।
कमलनाथ के गढ़ में पहुंचे शिवराज
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज छिंदवाड़ा के अमरवाड़ा में तेंदूपत्ता संग्राहकों के सम्मेलन में पहुंचे । छिंदवाड़ा पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ का गढ़ है। मुख्यमंत्री पिछले महीने भी छिंदवाड़ा गए थे। चुनाव से पहले कमलनाथ की घेराबंदी के लिए सीएम लगातार छिंदवाड़ा पर नजर बनाये हुए हैं| यहां शिवराज ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा| उन्होंने कहा मध्यप्रदेश सरकार ने किसानों के हित और सम्मान का हमेशा ध्यान रखा है। किसानों द्वारा उत्पादित फसलों की वाजिब कीमत दिलाई जा रही है। ढाई एकड़ तक की भूमि के स्वामित्व वाले लघु किसानों को मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना (संबल) से जोड़ा गया है। उन्होंने कहा कि असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए बनी मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना प्रदेश के लाखों श्रमिकों की तस्वीर और तकदीर बदलने वाली योजना है जिससे समाज के सबसे कमजोर वर्ग के लोगों के जीवन में बदलाव आएगा और उन्हें समाज की मुख्य धारा से जुडऩे का अवसर मिलेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here