इंदौर|(दीपक तिवारी)
प्रदेश में साल क्व अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव में 15 वर्ष से काबिज़ बीजेपी सरकार के लिए मुश्किलें कम होते दिखाई नहीं दे रही है।एक तरफ किसान आंदोलन के बाद जहां कक्का जी प्रदेश सरकार के विरोध में 51 जिलों में यात्रा निकालेंगे। वही अब गुजरात के किसान नेता और पटेल आरक्षण के कर्ताधर्ता हार्दिक पटेल भी मप्र में अपनी सक्रियता बढ़ाते दिख रहे है। हार्दिक पटेल ने मोदी सरकार को तनाशाही और हिटलर शाही की सरकार बताया।
दरअसल, रविवार को इंदौर प्रेस क्लब में प्रेस से मिलिये कार्यक्रम के तहत किसान क्रांति सेना के अध्यक्ष हार्दिक पटेल ने राज्य और केंद्र सरकार की नीति और रीति पर सवाल खड़े किये है। इतना ही नहीं सरकार पर तानाशाही और हिटलरशाही की राजनीति करने का आरोप लगाया। हार्दिक प्रदेश में अपनी मजबूती दर्शाने के लिए विधानसभा चुनाव से पहले 100 से ज़्यादा सभाएं प्रदेश की विधानसभाओ में करने जा रहे है।
हार्दिक ने कहा अगर 2019 में फिर से प्रधानमंत्री मोदी प्रधानमंत्री बने तो देश में चीन जैसे हालात होंगे और देश में कभी चुनाव नहीं होंगे। देश मे मोदी तनाशह के रूप में राज करेंगे। हार्दिक पटेल की माने तो देश के किसानों और युवाओ के रोजगार की समस्या के सॉल्यूशन की तलाश में है और जब हल मिल जाएगा तब वे सक्रिय राजनिति में उतरेंगे।हार्दिक की प्राथमिकता अभी किसान,यूथ और शिक्षा पर टिकी है.मप्र में अपनी सक्रियता को दर्शाने के लिए हार्दिक 100 से ज़्यादा विधानसभाओ में सभाएं करेंगे।वही बारिश के बाद 17 दिन की जन जागृति यात्रा की शुरुआत अमरकंटक से प्रारम्भ करने की तैयारी में है जिसमे किसानो के बीच उनकी समस्याओं को सुनकर उसके हल को लेकर सरकार पर सवाल खड़े किए जाएंगे।
हार्दिक पटेल ने राज्य की शिवराज सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा की सरकार किसान हितेषी नहीं है,सरकार चाहती थी की किसान आंदोलन हिंसक रूप ले इसलिए आंदोलन को फ्लॉप बताया जा रहा है।इसके साथ ही उन्हेोंने मालवा- निमाड़ में साइलेंट करप्शन करने का भी ज़िक्र किया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here