रिपोर्ट.. रामा नन्द तिवारी…
नई दिल्ली
करोल बाग के रैगरपुरा में नकली सीबीआई अफसरों की एक “टीम” ने दिनदहाड़े एक जूलरी फर्म के कर्मचारी से 19 लाख रुपये ठग लिए  । वह बुधवार को कैश जमा कराने बैंक जा रहे थे। रास्ते में तीन हट्टे-कट्टे लोगों ने रोका। खुद को सीबीआई से बताया। आई-कार्ड भी दिखाया। फिर चैकिंग के बहाने बैग चेक करने लगे। बैग में लाखों का कैश देखकर हवाला के रुपये होने का इल्जाम लगाया। कर्मचारी उनके झांसे में आ गया। सफाई देने लगा। तभी दो कथित अफसरों ने रुपयों वाला बैग अपने हाथ में ले लिया। उनका तीसरा साथी उस कर्मचारी को बाजुओं में भरकर एक साइड ले गया। बातों में उलझा लिया। उसी बीच बाकी दोनों ठग रुपयों का बैग लेकर चंपत हो गए।
कर्मचारी जब तक उन दोनों को खोजता, पीछे से तीसरा भी खिसक गया। इस तरह दिनदहाड़े बड़ी ठगी को अंजाम दिया गया। वारदात से इलाके में सनसनी है। व्यापारियों में दहशत और बढ़ गई है। रैगरपुरा जूलरी मेकिंग का हब है। वहां कई जगहों पर शुद्ध सोने से जूलरी बनाने की वर्कशॉप चलती हैं। दिल्ली भर के जूलर वहां से लेन-देन रखते हैं। कर्मचारी लाखों का सोना लेकर वर्कशॉप आते-जाते हैं। व्यापारियों की रोजाना बैंक में लाखों रुपयों की ट्रांजैक्शन होती है।
इस तरह की वारदात पहली बार नहीं हुई है। इससे पहले भी करोल बाग में ही ठगों के गिरोह पुलिस अफसर बनकर लाखों का सोना और कैश ठगने की कई वारदात को अंजाम दे चुके हैं। लूट, स्नैचिंग और गबन के मामले भी सामने आते रहते हैं। ऐसे हालात में व्यापारी बैचेन हैं। उनका कहना है कि जब बदमाश ही पुलिस बनकर दिनदहाड़े चैकिंग करने लगें तो कानून व्यवस्था कहां बची? वारदात पर वारदात हो रही है, लेकिन पुलिस कुछ नहीं कर पा रही।
ताजा वारदात रैगरपुरा में जाना जूलर्स नामक कंपनी के कर्मचारी तारा शंकर (26) के साथ हुई। वह दोपहर 3:30 बजे कंपनी के मालिक विभास के कहने पर 19 लाख रुपये बैंक में जमा कराने जा रहे थे। करीब सवा 4 बजे करोल बाग के पदम सिंह रोड पर नकली सीबीआई अफसरों ने रोक लिया। चेकिंग के बहाने उनका बैग चेक किया। रुपयों की रसीद लाने को कहा। इस तरह बातों में उलझाकर 19 लाख रुपयों से भरा बैग ले गए।
पुलिस ने दर्ज किया ठगी का केस
इस घटना के संबंध में करोल बाग पुलिस ने ठगी की धारा (आईपीसी 420) के तहत केस दर्ज कर लिया है। डीसीपी (सेंट्रल) एमएस रंधावा का कहना है कि केस में छानबीन जारी है। ताबड़तोड़ वारदातों का सवाल है कि तो इस साल इस तरह का पहला मामले सामने आया है। पिछले साल इसी मोड्स ऑपरेंडी पर करोल बाग में कुछ वारदात हुई थीं, जिनमें कुछ आरोपी पुलिस ने अरेस्ट भी किए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here