विकास वर्मा हरियाणा ब्यूरो गुरुग्राम:

लाइसेंस कालोनियों को नगर निगम में शामिल करने के लिए टाउन एंड कंट्री प्ला¨नग के महानिदेशक, नगर निगम और बिल्डरों के बीच शनिवार शाम हुई बैठक में टेकओवर का रास्ता लगभग साफ हो गया है। बैठक में बिल्डरों ने डीपीआर एस्टीमेटस पर अपनी सहमति जता दी है और डीपीआर के हिसाब से काम करने के लिए दो माह का समय मांगा है।

लाइसेंस कालोनियों को नगर निगम द्वारा टेकओवर करने की प्रक्रिया पर तेजी से काम चल रहा है। पुरानी डीपीआर पर बिल्डरों द्वारा आपत्ति जताए जाने के लिए नगर निगम ने 8 कालोनी डीएलएफ फेज एक से तीन, सुशांत लोक-1, पालम विहार, सनसिटी, साउथ सिटी-1, 2 की डीपीआर को रिवाइज भी कर दिया गया। जिसके बाद बुधवार को नगर निगम आयुक्त ने सभी बिल्डरों के साथ बैठक कर उन्हें रिवाइज डीपीआर से अवगत करा दिया था।

शनिवार को टाउन एंड कंट्री प्ला¨नग के महानिदेशक केएम पांडुरंग द्वारा ली गई बैठक में बिल्डरों को स्पष्ट कर दिया गया कि 8 फरवरी 2016 को टाउन एंड कंट्री प्ला¨नग कार्यालय द्वारा कालोनी टेकओवर आदेश के तहत बिल्डर सभी रोड, ओपन स्पेस, पार्क, सीवर, ड्रेनेज इत्यादि सुविधाओं को नगर निगम में हैंडओवर करेंगे। इसके बाद डीपीआर तैयार की गई और फिर रिवाइज डीपीआर भी तैयार कर बिल्डरों का दे दी गई। उन्होंने कहा कि सभी बिल्डरों से डीपीआर को धरातल पर लागू किया जाए। इसके बाद सभी बिल्डरों ने इस पर अपनी सहमति भी जता दी है और डीपीआर के तहत सभी विकास कार्य करने के लिए दो माह का समय मांगा है। जिसके बाद सभी कालोनियों को नगर निगम में शामिल कर लिया जाएगा। महानिदेशक ने बिल्डरों से सख्त लहजे में कहा है कि वह सभी विकास कार्य की समीक्षा के लिए हर 15 दिन में बैठक लेंगे। इसके अलावा बैठक में सभी बिल्डरों ने रेजिडेंट्स पर लंबित पड़े लाखों रुपये के रख-रखाव शुल्क की वसूली का मुद्दा भी महानिदेशक के समक्ष उठाया। इस पर यह निर्णय लिया गया कि रेजिडेंट्स पर बकाया रख-रखाव शुल्क की रिकवरी भी की जाएगी। इस बैठक में नगर निगम आयुक्त यशपाल यादव, चीफ इंजीनियर एनडी वशिष्ठ, एचएसवीपी के अधिकारी, टाउन प्ला¨नग के एसटीपी बीके सैनी, डीटीपी प्ला¨नग आरएस बाट, डीएलएफ, अंसल, सनसिटी, यूनिटेक कॉलोनाइजर के प्रतिनिधि भी मौजदू रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here