विकास वर्मा (हरियाणा ब्यूरो): देशभर में राजपूत समाज के विरोध का सामना कर रही फिल्म पद्मावत आज रिलीज हो जाएगी। फिल्म पर मचे बवाल को रोकना हरियाणा पुलिस के लिए भी किसी अग्नि परीक्षा से कम नहीं है। राजपूत समाज किसी भी तरह से फिल्म नहीं चलने देने की बात कह रहा है तो सिनेमाघर संचालक भी अंदरुनी तौर से फिल्म प्रदर्शित करने से घबरा रहे हैं। 25 जनवरी को प्रदेश में बेहतर कानून-व्यवस्था बनाए रखने को लेकर चंडीगढ़ में वरिष्ठ अफसरों की मैराथन मीटिंग हुई। मुख्य सचिव डी.एस. ढेसी ने गृह सचिव एस.एस. प्रसाद और डी.जी.पी. बी.एस. संधू के साथ बैठक कर रणनीति तैयार की। वहीं, दूसरी ओर बुधवार को हरियाणा सरकार के अधिकारियों ने पद्मावत को बारीकी से देखा। सूत्रों की मानें तो सरकार के वरिष्ठ अधिकारी फिल्म के दृश्यों से सहमत नजर आए। बताया गया कि अफसरों ने पद्मावती और पद्मावत दोनों फिल्मों के सीन देखे।
PunjabKesari
हालांकि मुख्यमंत्री खट्टर बीमार होने की वजह से फिल्म नहीं देख सके। फिल्म देखने के बाद प्रदेश के मुख्य सचिव डी.एस. ढेसी, गृह सचिव एस.एस. प्रसाद और डी.जी.पी. बी.एस. संधू ने मंत्रणा की। बता दें कि राजपूत समाज के विरोध के चलते गत दिनों हरियाणा सरकार ने फिल्म पद्मावत के प्रसारण पर रोक लगा दी थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट से बैन हटाने के बाद वीरवार को फिल्म रिलीज हो रही है। इससे पहले मुख्य सचिव की ओर से प्रदेश के सभी डी.सी. व पुलिस उपायुक्तों को धारा 144 लगाने के साथ ही अपने-अपने जिलों में समन्वय बनाने के लिए कहा है। वहीं, बैठक में डी.जी.पी. बी.एस. संधू ने मुख्य सचिव को भरोसा दिया कि प्रदेश में कानून-व्यवस्था कायम रखने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। सभी आई.जी. और पुलिस अधीक्षकों को ऐहतियात बरतने के साथ ही सिनेमाघरों की सुरक्षा चौक-चौबंद करने के आदेश दिए गए हैं।
PunjabKesari
हरियाणा पुलिस के लिए भारी है 25 की तिथि
हरियाणा पुलिस के लिए 25 तारीख बेहद चुनौती भरी रहती है। बीते साल 25 अगस्त को ही डेरा प्रमुख राम रहीम को सजा सुनाने के बाद पंचकूला सहित प्रदेश भर में ङ्क्षहसा फैली थी। लिहाजा इस बार भी 25 जनवरी का दिन पुलिस के लिए भारी हो सकता है। इस चैलेंज से निकलने के लिए प्रदेश के गृह सचिव एस.एस. प्रसाद ने अलग से डी.जी.पी. बी.एस. संधू व अन्य अफसरों के साथ अलग से बैठक की जिसमें कई तरह से सुरक्षा की रणनीति तैयार की गई। इसके लिए सरकार की ओर से अद्र्धसैनिक बलों की तैनाती का फैसला नहीं लिया गया।
PunjabKesari
किसी भी उपद्रवी को कानून हाथ में नहीं लेने दिया जाएगा
हरियाणा के गृह सचिव एस.एस. प्रसाद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार सिनेमाघरों को सुरक्षा मुहैया करवाई जाएगी और फिल्म दिखाना न दिखाना सिनेमाघर मालिकों का अधिकार है। उन्होंने कहा कि हरियाणा पुलिस के जवान ही कानून-व्यवस्था को संभालेंगे और किसी भी उपद्रवी को कानून हाथ में नहीं लेने दिया जाएगा।

फरीदाबाद व गुरुग्राम की घटनाओं में संलिप्तों पर होगी कार्रवाई
डी.जी.पी. बी.एस. संधू ने फिल्म ‘पद्मावत’ के प्रदर्शन को लेकर जो जिला फरीदाबाद व गुरुग्राम में हुई घटनाओं का कड़ा संज्ञान लेते हुए कहा कि इन घटनाओं में संलिप्त पाए गए किसी भी व्यक्ति को बक्शा नही जाएगा। संधू ने सभी राज्यवासियों से विशेष कर राजपूत समुदाय से यह अपील भी की है कि वे फिल्म के प्रदर्शन को लेकर किसी भी तरह से कानून व्यवस्था को भंग न करें, जिस भी सिनेमा हॉल में फिल्म को प्रदॢशत किया जाना है वहां पर कोई व्यक्ति अपने साथ किसी भी प्रकार का काई हथियार, डंडा आदि लेकर न आए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here