नई दिल्ली|(रामा नन्द तिवारी)
बजट सत्र के दूसरे चरण का आज 17वां दिन है। इस दौरान वाईएसआर कांग्रेस की ओर से लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया गया है। वहीं राज्यसभा में सांसदों का विदाई भाषण हुआ जिसे पीएम नरेंद्र मोदी ने संबोधित किया। दरअसल, सदन से 40 सांसद अपना कार्यकाल पूरा कर रिटायर हो रहे हैं।
पीएम मोदी ने संबोधित करते हुए कहा कि अगर सदन ठीक से चलता तो सांसदों को जाते-जाते कुछ बेहतर छोड़कर जाने का मौका मिला होता, लेकिन इससे वो वंचित रह गए। पीएम ने कहा कि इसके लिए सिर्फ विपक्ष ही नहीं बल्कि दोनों पक्ष जिम्मेदार हैं।
पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कुरियन की प्रशंसा करते हुए कहा कि उनका हंसता हुआ चेहरा कोई नहीं भूल सकता। उन्होंने कहा कि सदन से दो अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी रह चुके सचिन तेंदुलकर और दिलीप टर्की जैसे लोगों का अनुभव अब सदन को नहीं मिलेगा।
वहीं पीजे कुरियन ने कहा कि मैं 80 के दशक से संसद सदस्य हूं लेकिन ऐसा विरोध और हंगामा नहीं देखा जैसा इन दिनों चल रहा है। उन्होंने कहा कि इसके लिए दोनों ओर के सदस्य जिम्मेदार हैं और उनकी जिम्मेदारी बनती है कि सदन सुचारू रूम से चले।
आगे कुरियन ने कहा कि अगर सदन को चलाने वक्त मैंने किसी को कड़े शब्द बोले हों तो उसके लिए माफी चाहता हूं लेकिन कभी भी मन में कोई गलत मंशा नहीं रही। पीजे कुरियन ने कहा कि रिटायर हो रहे सांसदों का सदन को चलाने में काफी अहम योगदान रहा है। दोबारा चुनकर सदन में आने वालों को बधाई साथ ही रिटायर हो रहे सांसद भी बधाई के पात्र हैं।
सभापति वेंकैया नायडू ने सदन को बताया कि आज हम रिटायर हो रहे सांसदों को विदाई दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि सदन से उपसभापति पीजे कुरियन और पूर्व उपसभापति के रहमान खान भी रिटायर हो रहे हैं। सभापति ने कहा कि उपसभापति ने अपने कार्यकाल के दौरान सदन को सुचारू रूप से चलाया और उनके सलाह का मुझे भी काफी फायदा मिला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here