सतना/रामगोपाल पटेल
सतना जिले में रबी फसलो के भावांतर भुगतान योजना के अंतर्गत चना मसूर और सरसो की समर्थन मूल्य पर खरीदी और प्याज तथा लहसुन के भावांतर भुगतान योजना के लिये कुल 22 हजार 478 किसानो का पंजीयन किया गया है। इस आशय की जानकारी सोमवार को प्रदेश के खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री तथा सतना जिले के प्रभारी मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे की अध्यक्षता मे सम्पन्न रबी उपार्जन और भावांतर भुगतान योजना के पंजीयन की समीक्षा बैठक मे दी गई।
इस मौके पर विधानसभा उपाध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र सिंह, सांसद गणेश सिंह, विधायक शंकरलाल तिवारी, यादवेन्द्र सिंह, नीलांशू चतुर्वेदी, जिला पंचायत अध्यक्ष सुधा सिंह, कलेक्टर मुकेश शुक्ला, आयुक्त नगर निगम प्रतिभा पाल, अपर कलेक्टर जे.पी.धुर्वे, एस.डी.एम. भाव्या मित्तल, रिशब गुप्ता, बलवीर रमन, के.के.पाठक, एल.एल.अहिरवार, सुरेश अग्रवाल, कमलेश पुरी, सी.ई.ओ. जिला पंचायत दयाशंकर सिंह, उप संचालक कृषि आर.एस.शर्मा, जिला आपूर्ति अधिकारी के.के.सिंह सहित खाद्य सहकारिता नागरिक आपूर्ति निगम और सहकारी बैंक मार्कफेड के अधिकारी उपस्थित थे।कलेक्टर मुकेश कुमार शुक्ला ने बताया कि रबी उपार्जन के अंतर्गत समर्थन मूल्य पर गेहूँ की खरीदी का कार्य 26 मार्च से 26 मई तक किया जा रहा है। जिले मे 45 हजार 529 किसानो का पंजीयन किया गया है।
जिले मे स्थापित 79 खरीदी केन्द्रो पर सारी खरीदी की तैयारियां पूरी कर ली गई है। समितियो के माध्यम से किसानो को अपना गेहूँ विक्रय करने बुलावे का एस.एम.एस. खरीदी दिनांक से चार दिन पहले भेजा जा रहा है। इसमें सबसे पहले लघु और सीमांत कृषक तथा इसी क्रम मे बडे किसानो को एस.एम.एस. भेजे जा रहे है। एक दिन मे एक खरीदी केन्द्र मे 20 से 25 किसानो को ही एस.एम.एस. किया जा रहा है। जिला आपूर्ति अधिकारी के.के.सिंह ने बताया कि कलेक्टर के निर्देशन में पूरे प्रदेश मे पहलीबार नवाचार के रूप मे गेहूँ खरीदी केन्द्र दुरेहा करतहा को आदर्ष खरीदी केन्द्र के रूप मे विकसित किया गया है जहां किसानो को सर्व सुविधायुक्त माहौल मे गेहूँ विक्रय करने की सुविधा दी गई है। प्रभारी मंत्री सहित सभी जनप्रतिनिधियो ने इस प्रयास की सराहना की।
भावांतर भुगतान योजना मे पंजीयन की जानकारी देते हुये कलेक्टर मुकेश कुमार शुक्ला ने बताया कि 10 अप्रैल से 31 मई तक भांवातर भुगतान योजना के पंजीकृत किसानो से चना मसूर सरसो की खरीदी सममर्थन मूल्य पर कृषि मण्डियो मे की जायेगी। इसी प्रकार प्याज और लहसुन के पंजीकृत किसानो को भावांतर की राशि उपलब्ध कराई जायेगी। उन्होंने बताया कि चना मसूर सरसो के 22 हजार 478 पंजीकृत किसानो से 5 मण्डी और 2 उप मण्डियो मे खरीदी होगी। प्याज के लिये 1381 और लहसुन के 66 किसानो को मिलाकर कुल 1447 किसानो को भावांतर भुगतान योजना का लाभ दिया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here