बहराइच (मोहम्मद फिरोज)। गत दिवसों में ‘‘बाहर से दवा न लाने पर मरीज़ को ओ.टी. से किया गया बाहर‘‘ शीर्षकों से प्रकाशित समाचार के सम्बन्ध में मुख्य चिकित्साधिकारी बहराइच डा. ए.के. पाण्डेय द्वारा जिलाधिकारी को जाॅच आख्या प्रेषित की गयी है।
सीएमओ द्वारा की गयी जाॅच में पाया गया कि मरीज़ रामावती पत्नी मोहन लाल, निवासी बटुरहा, ब्लाक फखरपुर, बहराइच जिला चिकित्सालय में 23 मार्च 2018 को वाह्यरोगी के रूप में डा. पंकज कुमार श्रीवास्तव, सर्जन को दिखाने पर चिकित्सक द्वारा मरीज़ को आपरेशन की सलाह दी गयी थी। जिसके क्रम में सम्बन्धित मरीज़ 26 मार्च को वार्ड संख्या 02 के पेईंग बेड नं. 05 पर भर्ती हुई। डा. पंकज कुमार श्रीवास्तव, सर्जन द्वारा मरीज़ को उसी दिन अपरान्ह 02ः00 बजे बच्चेदानी के आपरेशन करने का समय दिया गया था। जाॅच के दौरान मरीज़ के पति मोहन लाल द्वारा बताया गया कि कुछ दवायें बाहर से लाकर दी गयीं थीें।
बाहर से दवा क्यों मंगायी गयी इस सम्बन्ध में मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, सर्जन एवं एनेस्थेटिस्ट से वार्ता करने पर इनके द्वारा बताया गया कि मरीज़ प्राइवेट/पेईंग वार्ड में भर्ती थी, जिसमें निर्धारित शुल्क लिये जाने का प्राविधान है। इसके साथ ही ऐसे मरीज़ बाहर से दवा भी स्वेच्छा से ला सकते हैं। सीएमओ ने बताया कि 26 मार्च को लगभग अपरान्ह 03ः00 बजे मरीज़ का आपरेशन कर उसे 04ः00 बजे तक उसकी निर्धारित शैय्या पर पहुॅचा दिया गया था। सीएमओ ने बताया कि मरीज को चिकित्सालय में उपलब्ध औषधि निःशुल्क उपलब्ध करायी जा रही है।
उल्लेखनीय है कि जिला चिकित्सालय में इलाज के लिए आने वाले मरीज़ों/परिजन की ओर से चिकित्सकों द्वारा बाहर से दवा लिखे जाने की शिकायतों का जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव ने कड़ा संज्ञान लिया है। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया है कि किसी भी मरीज़ को प्रत्येक दशा में बाहर की कन्ज़्युमेबिल्स दवाएं चिकित्सकों द्वारा न लिखी जाएं तथा आवश्यकतानुसार दवाओं का प्रबन्ध किया जाए। जिलाधिकारी द्वारा सचेत किया गया है कि किसी भी चिकित्सक द्वारा बाहर की दवा लिखने की पर्ची व जाॅच की पर्ची पाये जाने पर उनके विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी।
इस सन्दर्भ में सीएमओ द्वारा भी जिला चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधीक्षकों को निर्देश दिया गया है कि चिकित्सालय में ओपीडी एवं आईपीडी के मरीज़ों के लिए बाहर की दवा न लिखी जाय बल्कि सरकार की मंशानुरूप प्रत्येक रोगी को निःशुल्क दवाएं उपलब्ध करायी जाये। इसके लिए आवश्यकतानुसार दवाओं की व्यवस्था सुनिश्चित की जाय।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here