रीवा मे आपदा प्रबन्धन पर दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

0
53

धीरु सिंह

जिला कलेक्टर प्रीति मैथिल नायक के मार्गदर्शन एवं निर्देशन में होमगार्ड एवं नागरिक सुरक्षा विभाग रीवा के तत्वावधान में आयोजित सामुदायिक आपदा प्रबन्धन अभियान से सम्बन्धित दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया , जिसका शुभारम्भ रीवा के युवा ips पुलिस अधिकारी एडि.एसपी आशुतोष गुप्ता ने किया , उन्होने कहा कि देश दुनिया में किसाी भी प्रकार की आपदा कभी भी आ सकती है, यह आपदायें किसी जाति धर्म सम्प्रदाय या किसी व्यक्ति विशेष को नहीं बल्कि किसी को भी प्रभावित कर सकती है, एैसी आपदाओं में यदि कोई भी व्यक्ति किसी पीडित या जरूरतमंद की सहायता करता है, जान बचाता है तो मानवता की दृष्टि से वह उसकी जिन्दगी का सर्वश्रेष्ठ दिन होता है,उन्होने कहा कि आपदा प्रबन्धन का सूत्र वाक्य है ” रेस्क्यू ” रिहैबिलिटेशन एवं रिलीफ, जिसके माध्यम से हम आपदा से पीडित लोगो को राहत दे सकते है,
• दो दिवसीय कार्यशाला के शुभारम्भ अवसर पर जिला कमाण्डेन्ट डाॅ•मधु राजेष तिवारी, महिला एवं बाल विकास अधिकारी आषीश द्विवेदी, शासकीय कन्या महाविद्यालय के सहा. प्राध्यापक डाॅ मुकेश येंगल एवं चाइन्ड वेलफेयर कमेटी की ममता मिश्रा ने भी सम्बोधित किया,
• आपदा प्रबन्धन की दो दिवसीय कार्यशाला के प्रथम दिवस आयोजक संस्था की ओर से जिला कमाण्डेन्ट डाॅ मधु राजेश तिवारी ने आपदा प्रबन्धन अधिनियम-2005 के विभिन्न प्रावधानों के बारे में विस्तारपूर्वक बताया,उन्होने कहा कि किसी भी प्रकार की आपदा अचानक और थोडे समय के लिये आती है लेकिन उसका असर व्यापक और भयावह होता है, एैसे स्थिति में हर संवेदनषील व्यक्ति को आगे आकर बगैर किसी भेदभाव के बचाव के हर संभव प्रयास एवं सहयोग करना चाहिये, सहायक प्राध्यापक एवं रिएक्ट संस्था के अध्यक्ष डाॅ मुकेष येंगल ने रीवा में आयी दो बार की विकराल बाढ़ की विभीषिका का जिक्र करते हुए जिले के समाजसेवियों एवं जिला प्रशासन द्वारा धैर्य पूर्वक किये गये सामाजिक कार्यो के बारे में जानकारी प्रदान की,इसी क्रम में जे पी रीवा सीमेन्ट से आये प्रषिक्षक वाय एस चन्देल ने फायर सेफ्टी के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए पाॅंच प्रकार के अग्नि आपदा के बारे में स्पष्ट करते हुए इससे बचाव की बात बताई व ड्राईमान्स्ट्रेशन करके भी दिखलाया,
• जिला कलेक्टर प्रीति मैथिल नायक के मार्गदर्शन में हेामगार्ड एवं नागरिक सुरक्षा विभाग द्वारा आयोजित की जा रही दो दिवसीय कार्यशाला के प्रथम दिवस के अंतिम संत्र में होमगार्ड के प्लाटून कमाण्डर विकाश कुमार पाण्डेय ने भूकम्प आपदा के बारे में बताया कि किस प्रकार मध्य भारत में मध्यप्रदेश का एक बेल्ट भूकम्प के क्रियाषील क्षेत्र में है और इस प्रकार की आपदा आने पर हम किस किस प्रकार से बचाव के प्रयत्न कर सकते हैं, उन्होने कहा कि भूकम्प को रोका नहीं जा सकता लेकिन हम इस आपदा के समय और उसके बाद भी बचाव के बेहतर प्रयास करके बडे नुकसान से बच सकते हैं, डाॅ मुकेश येंगल ने प्रषिक्षणार्थियों से तटस्थता छोडकर सार्थक प्रतिक्रिया की बात की, कार्यशाला में नेहरू युवा केन्द्र के जे आर पाण्डेय प्रमुख रूप से उपस्थित रहे, जिला कमान्डेंट डाॅ मधु राजेश तिवारी ने बताया कि दूसने दिन का सत्र प्रातः 10 बजे से शुरू होगा और दिनभर विषय विषेषज्ञों द्वारा आपदा प्रबन्धन के विभिन्न आयामों की जानकारी दी जायेगी, कार्यशाला का समापन सायं 3:30 बजे होगा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here