कांग्रेस के मुखपत्र में छपा सर्वे, MP में बताया BJP की सरकार

0
50

भोपाल : कांग्रेस के अखबार नेशनल हेराल्ड ने मध्यप्रदेश चुनाव को लेकर सर्वे किया है। इस सर्वे के अनुसार राज्य में बहुमत के साथ बीजेपी की सरकार बनेगी। साथ ही यह भी साफ किया गया है कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस और बीएसपी के बीच गठबंधन होना बेहद जरूरी है, क्योंकि अगर गठबंधन नहीं हुआ तो प्रदेश की सत्ता से बीजेपी को हटाना बहुत मुश्किल होगा। इसके साथ ही गठबंधन के बाद भी बीजेपी को मध्यप्रदेश में बहुमत मिलने की बात कही गई है। अगर ऐसा हुआ तो प्रदेश में बीजेपी की ये चौथी पारी होगी। स्पीइक मीडिया नेटवर्क द्वारा 27 जुलाई को यह सर्वे जारी किया गया।

नेशनल हेरॉल्ड में छपी सर्वे रिपोर्ट
सर्वे में बताया गया है कि अगर कांग्रेस और बीएसपी बिना गठबंधन के चुनाव लड़ती हैं तो-

  • बीजेपी-  147 सीट
  • कांग्रेस-  73 सीट
  • बीएसपी- 9 सीट और
  • अन्य-  1 सीट मिलने का अनुमान है।
    अगर MP में कांग्रेस और बीएसपी का गठबंधन हुआ तो-
  • बीजेपी को 126 सीट
  • कांग्रेस और बीएसपी गठबंधन को 103 और
  • अन्य- 1 सीट मिलने का अनुमान है।
    तमिलनाडु के स्पीक मीडिया नेटवर्क द्वारा 27 जुलाई को जारी इस सर्वे में अनुमान जताया गया है कि अगर कांग्रेस-बीसपी का गठबंधन नहीं हुआ तो राज्य में सरकार में कोई बदलाव नहीं होगा, यानि बीजेपी को हरा पाना मुश्किल होगा और इसी के साथ राज्य में चौथी बार बीजेपी की सरकार बनेगी।

    PunjabKesari

    कांग्रेस नेता ने सर्वे पर दी सफाई
    कांग्रेस नेता अभय दुबे का कहना है कि नेशनल हेराल्डस में प्रकाशित सर्वे हमारा नहीं है। मध्यप्रदेश में इस बार कांग्रेस की बारी है।

    क्या कहना है भाजपा नेता का ?
    भाजपा प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा कि कांग्रेस गठबंधन, सौदा और समझौता कुछ भी कर ले प्रदेश में बीजेपी की सरकार बन रही है। इस बार निश्चित तौर पर सीटों की संख्या ज्यादा होगी। उन्होंने कहा कि रही बात प्रत्याशियों के चयन की तो 230 विधानसभा सीटों के प्रत्याशियों का चयन कार्यकर्ताओं के अनुसार होगा। उन्होंने कहा कि शिवराज सिंह को मुख्यमंत्री बनाने के लिए जो प्रयास जरुरी होंगे, वो संगठन करेगा।

    उल्लेखनीय है कि कांग्रेस का मुखपत्र कहे जाने वाले नेशनल हेराल्ड अखबार में 29 जुलाई को एक लेख प्रकाशित हुआ है। इस लेख में राफेल डील का उल्लेख किया गया है। लेख का शीर्षक है ‘राफेड डील मोदीस् बोफोर्स’, यानी ‘राफेल- मोदी का बोफोर्स’ (घोटाला) है। इस लेख के प्रकाशित होते ही बीजेपी ने कांग्रेस को घेरना शुरू कर दिया है। बीजेपी का कहना है कि राफेल के बहाने ही सही कांग्रेस ने यह तो माना कि बोफोर्स सौदे में घोटाला हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here