उद्धव ने कहा- गलत लोगों के साथ गठबंधन का अफसोस, शिवसेना का सीएम बनाने के लिए शाह की जरूरत नहीं

Total Views : 84
Zoom In Zoom Out Read Later Print

उद्धव ने कहा- गलत लोगों के साथ गठबंधन का अफसोस, शिवसेना का सीएम बनाने के लिए शाह की जरूरत नहीं

मुंबई. देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफे और उनकी प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद शुक्रवार शाम शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस की। नरेंद्र मोदी के खिलाफ बयानबाजी के आरोपों पर उद्धव ने कहा कि हमने कभी भी उनके खिलाफ टिप्पणी नहीं की। शिवसेना अध्यक्ष ने कहा कि मुझे गलत लोगों के साथ गठबंधन का अफसोस है। मैंने बाला साहब ठाकरे से शिवसेना का मुख्यमंत्री बनाने का वादा किया था और ऐसा करने के लिए मुझे शाह या फडणवीस की जरूरत नहीं है।


उद्धव बोले- मीठी-मीठी बातें बोलकर 2014 में फायदा उठाया

  • उद्धव ने कहा- भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के सामने 50-50 का फॉर्मूला फाइनल हुआ था। शाह ने कहा था कि अभी तक जो हुआ सो हुआ, अब न्याय होगा। शाह ने कहा था कि हम पद और जिम्मेदारियां बराबर बांट लेंगे। शाह ने कहा था कि मैं मुख्यमंत्री पद का नहीं जिक्र करूंगा। उन्होंने यह जरूर कहा था कि 50-50 पर कब बोलना है, यह मैं तय करूंगा।
  • शिवसेना अध्यक्ष ने कहा, "2019 लोकसभा चुनाव के बाद भी अमित शाह ने मुझसे पूछा था कि आप को कौन सा मंत्रालय चाहिए? मैंने कहा कि कोई अच्छा मंत्रालय दीजिए। उन्होंने मुझे वही मंत्रालय दिया, जो मैं नहीं चाहता था।
  • "हमने जिसका साथ दिया, उसको शत्रु बोलने की परंपरा शिवसेना की नहीं है। 2014 में भाजपा ने हमारा फायदा उठाया और मीठी-मीठी बातें कीं।' 
  • उद्धव बोले- फडणवीस की जगह अगर कोई और मुख्यमंत्री होता तो शायद शिवसेना उनके साथ भी खड़ी नहीं होती। हमें उनसे कोई दिक्कत नहीं। कौन झूठ बोल रहा है, यह जनता को पता है। लोकसभा में जो हमें मेंडेट मिला था, विधानसभा में वक्त कम क्यों हो गया? यह भी सभी को पता है।
  • उन्होंने कहा- चर्चा को लेकर हमने कभी दरवाजा बंद नहीं किया। बस मैं उनके झूठ से परेशान हूं। हमने सरकार को लेकर कांग्रेस से कभी चर्चा नहीं की। अहमद पटेल से मेरी नहीं, अमित शाह की पहचान है।
  • "हम डिप्टी सीएम के पद पर तैयार नहीं हैं। वादा मुख्यमंत्री का हुआ था तो मुख्यमंत्री ही मिलना चाहिए। आप महबूबा मुफ्ती, नीतीश कुमार जैसे लोगों के साथ सरकार चला सकते हैं और हमारे साथ सरकार चलाने में दिक्कत है।'

फडणवीस ने कहा- 50-50 पर मेरे सामने कभी बात नहीं हुई
फडणवीस ने इस्तीफे के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस की और कहा- ढाई-ढाई साल मुख्यमंत्री रहने के मुद्दे पर मेरे सामने कभी शिवसेना से बातचीत नहीं हुई। उन्होंने कहा कि बातचीत विफल होने के लिए शिवसेना ही सौ फीसदी जिम्मेदार है। पिछले 10 दिनों में मोदीजी के खिलाफ जिस तरह की बयानबाजी हुई, वह असहनीय है। राउत ने कहा कि हमने कभी भी नरेंद्र मोदी या अमित शाह के खिलाफ व्यक्तिगत बयानबाजी नहीं की।

हमारा उद्देश्य भाजपा को सरकार से दूर रखना है: शिंदे
एनसीपी प्रमुख शरद पवार के साथ कांग्रेस नेताओं की बैठक खत्म हुई। इसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा- हमारा उद्देश्य भारतीय जनता पार्टी को सत्ता से दूर रखना है, लेकिन इसको लेकर कोई भी तय चर्चा अभी नहीं हुई है।

सरकार बनाने को लेकर अभी तक कोई निर्णय नहीं: थोराट
बैठक के बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष बाला साहेब थोराट ने कहा- पवार साहब से हमने वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य पर चर्चा की है। वह अघाड़ी के बड़े नेता हैं, इसलिए उनसे चर्चा जरूरी था। सबसे बड़े दल को सरकार बनाने के लिए आमंत्रण देने की जिम्मेदारी माननीय राज्यपाल जी की है। उन्होंने आगे कहा, हमारे पास सरकार निर्माण के लिए पर्याप्त आंकड़े नहीं हैं, इसलिए हमने इस पर अभी तक कोई भी निर्णय नहीं किया है।

भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ा दल है इसलिए उन्हें सरकार बनाने के लिए अपना मत पेश करना चाहिए। हम वर्तमान की सिचुएशन को देख रहे हैं और हमने कोई भी स्ट्रैटेजी नहीं बनाई है।

भाजपा और शिवसेना को साथ आना चाहिए: गडकरी

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, ‘‘अभी समय है, मैं महसूस करता हूं कि महाराष्ट्र के लोगों के हितों के लिए भाजपा और शिवसेना को साथ आना चाहिए और सरकार बनानी चाहिए। 50-50 के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने शिवसेना से ऐसा कोई वादा नहीं किया था।’’

See More

Latest Photos