दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी भाजपा पहले भारतीय जनसंघ के रूप में जानी जाती थी. जिसकी शुरुआत डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने 1951 में की थी. जबकि भारतीय जनता पार्टी की स्‍थापना 6 अप्रैल 1980 को हुई. जनसंघ की विचारधारा के नेताओं नें इसका गठन किया. 1984 में हुए चुनावों में बीजेपी को सिर्फ 2 सीटों पर संतोष करना पड़ा था. अब 21 राज्‍यों में बीजेपी की सरकार है. देश की करीब 70 फीसदी आबादी पर बीजेपी का राज है. आईए जानते हैं कि इस समय देश में जिस पार्टी की सरकार है उसे खड़ा किन लोगों ने किया है.  

बीजेपी की सक्सेस स्टोरी जानने के लिए हमें भारतीय जनसंघ के बारे में जानना होगा.  जनसंघ ने 1952 के आम चुनावों में फाइट किया. कांग्रेस की जबरदस्त लहर के बावजूद इसकी झोली में तीन सीटें आईं. दूसरे आम चुनाव 1957 में चार सीटें हासिल कीं. इससे संघ का हौसला थोड़ा बढ़ गया.

वर्ष 1962 में हुए तीसरे लोकसभा चुनाव में सीटों का आंकड़ा दहाई में पहुंचते हुए 14 हो गया. इसकी लोकप्रियता लगातार बढ़ती रही और चौथे लोकसभा चुनाव 1967 में इसकी सीटों की संख्याा 35 हो गई. 1971 में इसकी सीटें पहली बार घटकर 22 रह गईं.

इसने 1977 में हुए छठे आम चुनाव में रिकार्ड 295 सीटों पर कब्जा कर कांग्रेस को पहली बार सत्ता से बेदखल कर दिया. हालांकि आपसी कलह की वजह से यह सरकार ज्या‍दा नहीं चली.

वर्ष 1980 में हुए लोकसभा चुनाव में इसकी सीटें सिर्फ 31 रह गईं और पार्टी बिखर गर्इ. इसके बाद जनसंघ की विचारधारा के नेताओं नें भारतीय जनता पार्टी का गठन किया. लेकिन, 1984 में हुए चुनावों में बीजेपी को सिर्फ 2 सीटों पर संतोष करना पड़ा.

नौवीं लोकसभा के लिए 1989 में हुए चुनाव में इसे 85 सीटें हासिल हुईं. इसी प्रकार 1991 में 120, 1996 में 161, 1998-99 में 182 और 2009 के चुनाव में 116 सीट मिलीं.

भारतीय जनता पार्टी, भारतीय जनसंघ की उत्तराधिकारी है. डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी, मौलीचंद्र शर्मा, प्रेमनाथ डोगरा, आचार्य डीपी घोष, पीतांबर दास, ए रामाराव, वच्छ राज व्यास, बलराज मधोक, दीनदयाल उपाध्या्य, अटल बिहारी वाजपेयी, लाल कृष्ण आडवाणी, डॉ मुरली मनोहर जोशी, कुशाभाऊ ठाकरे, बंगारू लक्ष्मण, के जना कृष्णमुर्ति, एम वेंकैया नायडू, नितिन गडकरी और राजनाथ सिंह ने मेहनत कर इसे यहां तक पहुंचाने का काम किया.

बीजेपी इतनी बड़ी राजनीतिक पार्टी यूं ही नहीं बनी है. कई शख्सियतों ने इसे फर्श से अर्श तक पहुंचाया है. लेकिन वर्तमान अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे सबसे ज्यादा ऊंचाई प्रदान की है. इसे न सिर्फ दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बनाने का काम किया बल्कि पूर्वोत्तर तक में बीजेपी का झंडा लहरा दिया, जहां सत्ता के लिए कभी बीजेपी के नेता सोचते भी नहीं थे. सेंटर फॉर द स्‍टडी ऑफ सोसायटी एंड पॉलिटिक्‍स के निदेशक प्रो. एके वर्मा कहते हैं कि एक दौर था जब केंद्र और राज्‍यों में कांग्रेस की सरकारें होती थीं. उसे कांग्रेस सिस्‍टम कहते थे. कांग्रेस की तर्ज पर ही बीजेपी सिस्‍टम विकसित हो गया है.