रायगढ़। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छत्तीसगढ़ में आज लोकसभा चुनाव का शंखनाद कर दिया। रायगढ़ की रैली में पीएम मोदी ने महागठबंधन, प्रदेश की कांग्रेस सरकार के फैसलों और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर गांधी परिवार पर जमकर निशाना साधा।

प्रधानमंत्री मोदी ने छत्तीसगढ़ सरकार के गठन के बाद लिए गए दो फैसलों को आधार बनाकर सरकार पर सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि, "चुनाव आते-जाते रहते हैं, सरकार आती-जाती रहती है। लेकिन सामान्य मानव के जीवन स्तर को ऊपर उठाने का संकल्प अटल रहता है। दो महीने पहले जब छत्तीसगढ़ में नई सरकार बनी हमने भी समझ के साथ बधाई दी कि चलो 15 साल के बाद कुछ नई सोच के साथ नई शुरुआत करेंगे, छत्तीसगढ़ के युवाओं के लिए नए तरीके से कुछ काम करेंगे। भाईयों और बहनों उन्होंने नया किया, अभी आप भी नहीं जान पाए लेकिन जो पहले बेहतर किया गया। उसको भी ठप करने में लगे हैं। यहां की सरकार बनने के बाद 'आयुष्मान भारत' को बंद कर दिया गया, इतना ही नहीं सीबीआई की प्रदेश में एंट्री पर रोक लगा दी गई।"
वो यहीं नहीं रुके, उन्होंने रायगढ़ की रैली में कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि, इनका रोम-रोम बिचौलियों के एहसान तले दबा हुआ है। रायपुर से लेकर दिल्ली तक कांग्रेस की सल्तनत दलालों और बिचौलियों के बीच फली फूली है। यही कारण है, यहां की नई सरकार ने सबसे पहले आयुष्मान भारत से बाहर निकलने का फैसला लिया। यह योजना बहुत सफलता के साथ गरीब परिवारों को राहत देने का काम कर रही है। लेकिन यहां पर गरीबों से आयुष्मान भारत के तहत इलाज कराने का अधिकार छीन लिया गया।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि," मैं कांग्रेस की सरकार से जानना चाहता हूं कि छत्तीसगढ़ के गरीब को किस बात की सजा दे रहे हैं। आज देश का गरीब मोदी के साथ खड़ा हो रहा है, यह उनको बहुत चुभता है। उनको लगता है 55 साल के कारोबार में हमने सुबह शाम गरीबों की माला जप करके यह हमारा एकाधिकार बना दिया था। यह मोदी कौन होता है? जिसको गरीबों ने स्वीकार कर लिया। गरीबों ने अपना लिया और मोदी कौन होता है ? जो गरीबों का ईमानदारी से काम करने जुट जाए और इसी बात ने उनको परेशान कर रखा है।"

'आयुष्मान' को लेकर कांग्रेस को आड़े हाथ लिया

प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि छत्तीसगढ़ बरसों पुरानी स्थिति की तरफ लौटते हुए दिख रहा है। आयुष्मान भारत योजना में वैज्ञानिक तरीके से लाभार्थियों का चयन होता है। कोई किसी का नाम लिस्ट से हटा नहीं सकता। फर्जीवाड़ा करके किसी का नाम जोड़ नहीं सकता और पैसे सीधे अस्पताल के अकाउंट में जाता है। मरीज को एक भी रुपया, अस्पताल को देना नहीं पड़ता है। गरीबों को यही सीधी मदद बिचौलियों के सारे काम करने वाली कांग्रेस कैसे बर्दाश्त कर सकती?