बीजेपी के सियासी रथ के पहिए पश्चिम बंगाल की ज़मीन पर दिसंबर में ‘रथयात्रा’ के लिए एक इंच भी आगे खिसक पाते, उससे पहले ही उन्हें जाम कर दिया गया. रथयात्रा पर रोक धुंधली और अस्पष्ट इटेंलीजेंस रिपोर्ट के आधार पर लगाई गई. यानि रोक का फैसला उन ‘ज़मीनी सुरागों’ के आधार पर नहीं लिया गया, जिनका दावा ममता बनर्जी सरकार ने किया था. इंडिया टुडे की स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम (SIT) ने  अपनी पड़ताल के बाद ऐसा दावा किया है.   

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने समूचे पश्चिम बंगाल में पार्टी का अलख जगाने के लिए रथयात्रा की खास रणनीति बनाई थी. इसके तहत 7 दिसंबर को राज्य के कूचबिहार से, 9 दिसंबर को 24 परगना से और 14 दिसंबर को बीरभूम से ‘रथयात्रा’ निकलनी थीं. ममता बनर्जी सरकार ने रथयात्रा के लिए इजाज़त नहीं दी. इसके पीछे उन इंटेलीजेंस रिपोर्ट्स का हवाला दिया गया जिनके मुताबिक साम्प्रदायिक सौहार्द को ख़तरे का अंदेशा था. बीजेपी ने रथयात्रा पर रोक के फैसले को अदालत में चुनौती दी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने पार्टी की याचिका खारिज कर दी. सुप्रीम कोर्ट ने साथ ही कहा- “राज्य सरकार की ओर से जताई गई आशंकाएं बेबुनियाद नहीं हैं.”   
‘हवा हवा में’ थे टिप्स  

रथयात्रा को लेकर तकरार पर सियासी माहौल गरमाने के बीच इंडिया टुडे SIT ने पश्चिम बंगाल के इंटेलीजेंस ढांचे को भेद कर पता लगाने का प्रयास किया कि अगर रथयात्रा को राज्य में इजाज़त दे दी जाती तो किस स्तर का ख़तरा होता. SIT की जांच से सामने आया कि ज़मीनी स्तर पर कोई खास इंटेलीजेंस इनपुट नहीं थे जिनके आधार पर रोक के फैसले को वाज़िब ठहराया जा सके.

पश्चिम बंगाल के बांकुरा ज़िले में इंटेलीजेंस वॉच के प्रभारी अधिकारी जे पी सिंह ने अंडरकवर रिपोर्टर के सामने माना कि उनकी यूनिट की रिपोर्ट टॉप से आए फरमान के आधार पर तैयार की गई थी.     

रिपोर्टर- जो रथयात्रा होनी थी बीजेपी की, उसको लेकर आपके पास किस तरह के इनपुट्स थे? कहां-कहां दंगे हो सकते थे? क्या क्या हो सकता था?

सिंह- नहीं वैसी कोई बात नहीं, अगर इजाज़त (रथयात्रा की) मिलती तो हम प्रोटेक्शन देते. लेकिन उनके पास इजाज़त ही नहीं है तो.

रिपोर्टर- लेकिन सर रिपोर्ट तो आपने ही बनाई होगी.

सिंह- हां, वो तो बनी. हर डिस्ट्रिक्ट ने बनाई. हर जगह ऐसा ही है....हम क्या बता रहे हैं कि मास्टर सिर्फ एक आदमी होता है दस लोग नहीं...रिपोर्ट उन्हीं के निर्देशों पर है और उसी के मुताबिक भेजी गई...

सिंह ने माना कि प्रस्तावित यात्रा को लेकर उनका डोज़ियर धुंधले इनपुट्स के आधार पर तैयार किया गया.

रिपोर्टर- यानि सब हवा हवा है जो भी.

सिंह- हां, सब हवा हवा है.

पश्चिम बंगाल के पश्चिमी बर्धमान जिले में स्पेशल ब्रांच के एसीपी बप्पादित्या घोष ने कबूल किया कि तृणमूल और बीजेपी दोनों ही धार्मिक भावनाएं भ़ड़काने में शामिल थे. साथ ही एसीपी ने कबूल किया कि उनके दफ्तर के पास उन मुद्दों को लेकर कोई ठोस इंटेलीजेंस नहीं थी, जो बीजेपी के यात्रा होने की स्थिति में राज्य में सामने आ सकते थे.  

घोष ने आरोप लगाया, “कुछ राजनीतिक दबाव हमारे ऊपर था.” घोष ने कहा- “राजनीतिक दबाव, कानून और व्यवस्था की स्थिति, उस वक्त के त्योहार.”

घोष के मुताबिक उनकी यूनिट ने मार्च 2018 में पश्चिमी  बर्धमान जिले में ‘एक साम्प्रदायिक समस्या’ को रिपोर्ट किया था. घोष ने कहा, “हमने उस समस्या को लेकर रिपोर्ट दी थी.”   

रिपोर्टर- “इसका मतलब कोई ताजा इनपुट नहीं था.”

घोष-  “नहीं...ऐसा कुछ नहीं था.  ऐसी कोई समस्या नहीं थी.”

TMC ने फर्ज़ी इंटेलीजेंस से किया इनकार

हालांकि पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ टीएमसी ने इंडिया टुडे की स्वतंत्र जांच को साजिश बता कर खारिज किया. पार्टी के वरिष्ठ नेता मदन मित्रा ने जोर देकर कहा कि राज्य सरकार के पास पुख्ता जानकारी थी कि बीजेपी का पश्चिम बंगाल में साम्प्रदायिक गड़बड़ी फैलाने का मंसूबा था.

मित्रा ने कहा, “मैं पूरी तरह असहमत हूं. ये साजिश बीजेपी के नेतृत्व ने रची थी. आप जानते हैं कि बीजेपी बिना मतलब बीजेपी प्रचार पर 4000 करोड़ रुपए नहीं खर्च करती. तो, उन्होंने लगभग पूरे मीडिया को खरीद लिया है.”  

मित्रा ने ऐसी दलील को खारिज किया कि राज्य का इंटेलीजेंस ढांचा बीजेपी की रथयात्रा के खिलाफ झूठी रिपोर्ट्स तैयार करने के लिए राजनीतिक दबाव में था.

टीएमसी नेता ने कहा, “हमें ज़िलों से रिपोर्ट मिल रही थी, यहां तक कि ब्लॉक स्तर से भी कि बीजेपी हर जगह साम्प्रदायिक दंगे कराने की कोशिश कर रही है. ऐसे में ये (रिपोर्ट्स) गढ़ी हुई या फ़र्ज़ी नहीं थीं. ज़िला स्तर से जो रिपोर्ट भेजी गई थीं वो पूरी तरह असल थीं.”

पुरानी घटनाओं पर आधारित थीं रिपोर्ट

लेकिन जिन पर ज़मीनी स्तर पर इंटेलीजेंस इकट्ठा करने की ज़िम्मेदारी थी वो कैमरे पर कबूल करते पकड़े गए कि विपक्ष के आयोजन (रथयात्रा) को लेकर उन्होंने जो ख़तरा जताया था वो धुंधले और अस्पष्ट इनपुट्स पर आधारित था.   

पश्चिम बंगाल के पूर्व बर्धमान जिले में डिस्ट्रिक्ट इंटेलीजेंस ब्यूरो के डीएसपी मधुप चंद्र दास ने बीजेपी की प्रस्तावित रथ यात्रा को लेकर किसी तरह के निगेटिव इनपुट्स मिलने से इनकार किया.

दास- “नहीं, हमारे पास कोई सूचना नहीं थी. ये राजनीतिक मामला था.”

रिपोर्टर- “आपका मतलब कि ये संवेदनशील मुद्दा नहीं था....अगर यात्रा निकलती तो क्या वहां दंगे होते?

दास- “नहीं ऐसा कुछ नहीं.”

हावड़ा देहात में इंटेलीजेंस अधिकारियों ने माना कि उनकी राज्य सरकार को भेजी गई रिपोर्ट पुराने रिकार्ड्स पर आधारित थीं -- ना कि मौजूदा स्थिति के आधार पर.” लोकल इंटेलीजेंस के इंस्पेक्टर अमरजीत ने माना कि मौजूदा परिस्थितियों में किसी ताजा गड़बड़ को लेकर कोई टिप्स नहीं मिले थे. अमरजीत ने कहा, “वो थानों में जितने भी केस हैं जो कुछ साल पहले के दर्ज हुए, वही रिकॉर्ड भेजे गए.”


रिपोर्टर-“अच्छा, अभी ताजा परिस्थिति में ऐसा कुछ होता नहीं दिख रहा.”

अमरजीत- “नहीं, नहीं. अभी फिलहाल कुछ नहीं. ऐसी कोई आशंका नहीं है.”