बसंत पंचमी पर सरस्वती माता की पूजा का विशेष विधान है। सरस्वती को विद्या की देवी माना जाता है। इसके साथ ही देवी सरस्वती को संगीत की देवी का विशेष दर्जा भी प्राप्त है। आज भी यदि कोई व्यक्ति अच्छा गाता है तो उसे कहा जाता है कि उसके कंठ में सरस्वती माता विराजमान है। बसंतपंचमी के दिन सरस्वती माता का दिन माना जाता है इसलिए आज हम आपको उनके एक खास मंदिर के बारे में बताएंगे।
आंध्र प्रदेश में है सरस्वती माता का यह विचित्र मंदिर

सरस्वती माता के इस मंदिर के बारे में तरह-तरह की किवदंतियां प्रचलित है। यह मंदिर आंध्र प्रदेश के बासर गांव में गोदावरी नदी के तट पर स्थित है। इस मंदिर में केंद्रीय रूप से सरस्वती माता की भव्य प्रतिमा स्थापित है, उनके साथ लक्ष्मी माता भी यहां विराजमाान हैं। सरस्वती देवी की मूर्ति लगभग 4 फुट की ऊंची है। यहां वह पद्मासन मुद्रा में है। इस मंदिर की सबसे खास बात है कि मंदिर के एक स्तंभ से संगीत के सातों स्वर सुनाई देते हैं, इसी विशेषता के चलते भक्त यहां खींचे चले आते हैं। कोई भी ध्यानपूर्वक कान लगाकर इस ध्वनि को सुन सकता है। प्राचीन कथाओं की माने तो मां सरस्वती के मंदिर से थोड़ी दूर दत्त मंदिर स्थित है, जहां से होते हुए गोदावरी नदी तक एक सुरंग जाया करती थी। कहा जाता है कि इसी सुरंग के द्वारा ही राजा महाराजा पूजा के लिए जाते थे। बाल्मीकि ऋषि को भी यहीं पर सरस्वती माता से आर्शीवाद मिला था। जिसके बाद वहीं पर उन्होंने रामायण लिखना शुरु किया था।
अक्षाराभिषेक की रीति का है रिवाज

इसके अलावा यहां एक धार्मिक रीति भी विख्यात है, जिसे अक्षर आराधना कहते हैं। अक्षर आराधना में बच्चों को शिक्षा प्रारंभ करने से पहले अक्षराभिषेक के लिए यहां पर लाया जाता है। मान्यता है कि बच्चे के जीवन के पहले अक्षर यहां लिखवाने से बच्चे का शैक्षिक जीवन सदैव सफल रहता है। इस रीति के बाद हल्दी का लेप प्रसाद के रूप में बांटा जाता है। सरस्वती माता ब्रह्मदेव की मानस पुत्री भी हैं, साथ ही विद्या की अधिष्ठात्री देवी भी मानी जाती हैं।
यह मंदिर काफी प्राचीन माना जाता है, मान्यता है कि महाभारत के लेखक वेद व्यास जब मानसिक रूप से परेशान थे तब वह शांति के लिए तीर्थयात्रा पर गए थे। अपने मुनियों के साथ वह उत्तर भारत की तीर्थयात्रा करके बासर पहुंचे। उन्होंने गोदावरी नदी के तट को देखा नदी के तट की प्राकृतिक सौंदर्यता से मंत्र-मुग्ध हो कर वहीं रुक गएं, कहा जाता है कि उन्हें इसी जगह पर ज्ञान की प्राप्ति हुई थी।