एनटीवी टाइम :- चंदू शर्मा 
लोकसभा चुनाव 2019 से पहले विपक्षी दलों और बीजेपी की ओर से एक दूसरे पर हमले जारी हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को अगरतला में कांग्रेस और त्रिपुरा में पूर्व की माणिक सरकार पर जमकर हमला किया। उन्होंने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर तैयार होने वाले महागठबंधन को महामिलावट बताया.
 
  • अगरतला में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने त्रिपुरा में पूर्व की माणिक सरकार और कांग्रेस पर जमकर साधा निशाना
  • पीएम मोदी ने कहा मोदी को गाली देने का आजकल चल रहा है कॉम्पटिशन, ओलंपिक
  • महामिलावट वाले दिल्ली में हाथ पकड़-पकड़कर फोटू निकालते हैं, कलकत्ते में जाकर फोटू निकालते हैं: मोदी
  • मोदी न कहा, कोई पूछे कि किसानों के लिए क्या अजेंडा है, पूछते ही मोदी को ढेरों गाली देंगे
त्रिपुरा की राजधानी अगरतला में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रदेश में पूर्व की माणिक सरकार समेत कांग्रेस पर जमकर हमला किया। लोकसभा चुनाव 2019 से पहले तैयार हो रहे महागठबंधन पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि मोदी को गाली देने का आजकल कॉम्पटिशन चल रहा है, ओलिंपिक चल रहा है। यह महामिलावट (महागठबंधन) में यही काम चल रहा है।
 
पीएम मोदी ने महागठबंधन पर हमला करते हुए कहा, 'अवसरवादिता की हद देखिए, आप मुझे बताइए, ये महामिलावट (महागठबंधन) वाले दिल्ली में हाथ पकड़-पकड़कर फोटू निकालते हैं, कलकत्ते में जाकर फोटू निकालते हैं, ये त्रिपुरा में एक-दूसरे का चेहरा देखने के लिए तैयार हैं क्या, केरल में हैं क्या बंगाल में हैं क्या। लेकिन देश को भ्रमित करने के लिए हाथ में हाथ मिलाकर महामिलावट का अभियान चला रहे हैं और करना क्या, जब भी मिलो मोदी को गाली दो। ये अभी भी पुराने झूठ में जी रहे हैं कि इनको कोई पकड़ नहीं पाएगा।' 
 
 
कांग्रेस सरकार पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जोरदार तंज 
 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, 'यह पूरी व्यवस्था किसने बनाई, बिचौलियों और दलालों की यह पूरी व्यवस्था किसने तैयार की। साथियों दिल्ली में जिनकी 55 सालों तक सरकार थी, यहां जिनकी दो दशक तक सरकार रही, इन्हीं दोनों साथियों की जुगलबंदी ने यह पाप किया था। गुंडों और भ्रष्टाचारियों, बिचौलियों की महामिलावट के इन साथियों का एक कमाल था, जिसने त्रिपुरा और देश के गरीब एवं मध्यम वर्ग के हक पर डाका डाला। साथियो, ये महामिलावट के साथी दलालों-बिचौलियों के सबसे बड़े संरक्षक रहे हैं। ये दिल्ली में फिर से एकबार सपना देख रहे हैं कि दिल्ली में हो सके उतना जल्दी एक मजबूर सरकार बन जाए, मजबूत सरकार से उनको ज्यादा परेशानी हो रही है। उन्हें तो मजबूर सरकार चाहिए क्योंकि ऐसे में उन्हें घर भरने में सुविधा रहेगी, उनके वंश-वारिस की सेवा करने की सुविधा रहेगी, तिकड़मबाजी करने के लिए मैदान खुला मिल जाएगा' 
 
नरेंद्र मोदी ने कहा, 'मुझे बताया गया है कि राज्य के इतिहास में पहली बार न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के आधार पर पहली बार त्रिपुरा राज्य में किसानों से धान खरीदा है। मैं हैरान हूं कि दिल्ली में बड़े-बड़े भाषण झाड़ने वाले नेता (माणिक सरकार) जब यहां उनकी पार्टी (भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी-CPM) की सरकार थी एमएसपी पर किसानों का धान खरीदने का काम जिन्होंने नहीं किया, देश को ऐसे लोगों को पहचानना पड़ेगा। उनको बेनकाब करना पड़ेगा।' उन्होंने कहा, 'सातवें वित्त आयोग की सिफारिशों को लागू कर लाखों कर्मचारियों का ध्यान भी रखा गया है। ये काम जो मजदूरों के नाम पर राजनीति करते हैं, दुनियाभर को मजदूरों के हक का भाषण देते हैं, उन्होंने त्रिपुरा में इतने साल शासन किया लेकिन पे-कमिशन की रिपोर्ट की कभी परवाह नहीं की। इस त्रिपुरा को पहले की सरकार ने अलग-थलग करके रखा था, वह अब सही मायने में देश की मुख्यधारा से जुड़ रहा है।'