बैतूल। NTVtime news नितिन अग्रवाल 
 
 आगंनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका एकता यूनियन की बैठक 17 को
वादाखिलाफी व महिला विरोधी काम कर रही मोदी सरकार: सुनीता राजपाल
25 को दिल्ली में संसद मार्च रैली में शामिल होने की अपील
 
बैतूल। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका एकता यूनियन की जिलाध्यक्ष सुनीता राजपाल ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि 25 फरवरी को देश भर की लाखों आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका अपने हक अधिकार तथा वर्तमान में केन्द्र में बैठी भारतीय जनता पार्टी की सरकार की झूठी घोषणाओं  के विरोध में 25 फरवरी को दिल्ली में संसद मार्च करेंगे। इस दौरान जिले से सैंकड़ो आंगनवाड़ी कार्यकर्ता दिल्ली पहुंचेगी। 
जारी विज्ञप्ति में श्रीमती राजपाल ने बताया कि केन्द्र सरकार ने  1 फरवरी को घोषित बजट में महिला एवं बाल विकास विभाग के 50 प्रतिशत मानदेय वृद्धि की बात की थी जो एक भ्रामक प्रचार ही नहीं सरासर झूठ का पुलिंदा है। पिछले 11 सितम्बर 2018 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा की गई घोषणा में कहा गया था कि दीपावली के पहले आंगनवाड़ीकर्मियों 50 प्रतिशत बड़ा हुआ मानदेय मिलने की बात की थी, वह भी बईमानी व झूठी साबित हुई। बजट में आवंटन के अभाव में अभी तक वह बढ़ा हुआ मानदेय नहीं दिया गया। उसी बजट आवंटन में प्रावधान रखा गया है, उसमें कुछ नया नहीं, यह सिर्फ बजट मात्र दिखावा व लोगो को भ्रमित करने वाला दिखाया गया। फिर 50 प्रतिशत वृद्धि इस बजट में कर रहे है, जबकि यह झूठ है। पिछला आवंटन न होने के कारण इस बजट में आवंटन किया गया है। इसमें नया कुछ नहीं है। मोदी सरकार वादाखिलाफी और महिला विरोधी का काम कर रही है। साथ ही आंगनवाड़ी कार्यकर्ता अपने विभिन्न मांगे सरकारी कर्मचारी का दर्जा, न्यूनतम वेतन 18 हजार, पेंशन, ग्रेच्यूटी, सामुहिक बीमा योजना को लागू करवाने आदि मांगो को लेकर आल इंडिया आंगनवाड़ी कार्यकर्ता सहायिका फेडरेशन नई दिल्ली के आव्हान पर 25 फरवरी को दिल्ली में संसद मार्च करने जा रही है। इसको लेकर बैतूल जिले की आंगनवाड़ी कार्यकर्ता सहायिकाओं की एक बैठक 17 फरवरी रविवार को कर्मचारी भवन में रखी गई है। जिले की सभी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं से अपील की है कि अधिक से अधिक संख्या में बैठक में उपस्थित हो व 25 फरवरी को दिल्ली में आयोजित संसद मार्च के लिए 23 फरवरी को जिले से जाने वाली रैली में भाग लेकर सफल बनाएं। अपील करने वालों में कार्यकारी अध्यक्ष सुशीला मेहरा, महासचिव पुष्पा वाईकर, उपाध्यक्ष सविता आर्य, सचिव गीता मालवीय, सुनीता तिवारी, ललिता वर्मा, इंदिरा भारद्वाज, रेखा खाड़े, उषा नागले, उषा गावंडे, कामिनी वर्मा, जमुना आठोले, रामप्यारी कुमरे आदि शामिल है। 
 
आर्थिक संकट से जूझ रही आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, दो माह से नहीं मिला वेतन
बैतूल। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता सहायिका एकता यूनियन की महासचिव पुष्पा वाईकर ने बताया कि पिछले दो माह से आंगनवाड़ी कार्यकर्ता सहायिकाओं को केन्द्र सरकार के अतिरिक्त प्रदेश सरकार द्वारा मिलने वाला मानदेय अप्राप्त है। केन्द्र सरकार द्वारा कार्यकर्ताओं को दिया जाने वाला 3 हजार रूपए, सहायिकाओं को 1500 रूपए सिर्फ वही प्राप्त हो रहा है। प्रदेश सरकार द्वारा मिलने वाला अतिरिक्त मानदेय कार्यकर्ता को 7 हजार, सहायिका को 3 हजार 500 पिछले दो माह से अप्राप्त है जिसके चलते आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका आर्थिक संकट से जूझ रही है। इस भीषण महंगाई के दौर में अपने परिवार का भरण पोषण का आर्थिक संकट कार्यकार्ताओं के समक्ष खड़ा हो गया है। कार्यकर्ताओं ने प्रदेश सरकार से गुहार लगाते हुए कहा कि प्रदेश सरकार से मिलने वाला मानदेय शीघ्र हमे दिया जाए। मांग करनेे वालो में जिलाध्यक्ष सुनीता राजपाल, कार्यकारी अध्यक्ष सुशीला मेहरा, उपाध्यक्ष सविता आर्य, रामप्यारी कुमरे, सचिव सुनीता तिवारी, गीता मालवीय, ललिता वर्मा व इंदिरा भारद्वाज, रेखा खाड़े, कामिनी वर्मा, गीता साहू, जमुना आठोले, उर्मिला खाड़े आदि शामिल है।