सीधी NTVTIME news जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास सीधी अवधेश कुमार सिंह द्वारा बताया गया कि किशोर न्याय बालकों की देखरेख और संरक्षण नियम 2016 के नियम 56 के अनुसार जब कभी कोई 18 वर्ष से कम आयु को बालक शराब स्वापक और मनः प्रभारी पदार्थो व तंबाकू के प्रभाव या लत में बिक्री के प्रयोजनार्थ सहित पाया  जाता है तो पुलिस इस बात की जांच करेगी कि बालक किस प्रकार से ऐसे शराब या नशीले पदार्थों के प्रभाव में आया है एवं जांच पश्चात पुलिस द्वारा किशोर न्याय अधिनियम 2015 की धारा 77 व 78 के तहत प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज किया जाएगा

rajneesh Tiwari sidhi