Tuesday, June 28, 2022
Homeदेशउत्तर और मध्य भारत में क्यों चल रही है लू? क्या धीमी...

उत्तर और मध्य भारत में क्यों चल रही है लू? क्या धीमी पड़ गई है मानसून की रफ्तार


नई दिल्ली. उत्तर और मध्य भारत के लोग इन दिनों भीषण गर्मी से बेहाल हैं. दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात और मध्य प्रदेश के कई शहरों में लू चलने के साथ-साथ तापमान 45 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया है. मौसम विभाग के मुताबिक अगले 3-4 दिनों तक इन इलाकों के लोगों को गर्मी से राहत नहीं मिलने वाली है. वैसे देखा जाए तो जून के पहले हफ्ते से इन इलाकों में गर्मी थोड़ी कम हो जाती है. केरल में मानसून के समय से तीन दिन पहले आने के बाद उम्मीदें और भी बढ़ गई थी. लेकिन इस बार ऐसा कुछ नहीं दिख रहा है. दरअसल कहा जा रहा है कि मानसून की रफ्तार थोड़ी धीमी पड़ गई है. ऐसे में देश के कई इलाकों में तापमान  कम नहीं हो रहे हैं.

पिछले करीब एक हफ्ते से कर्नाटक में मानसून अटका हुआ है. कहा जा रहा है कि अगले 4-5 दिनों तक इसकी रफ्तार भी नहीं बढ़ने वाली है. हिंदी अखबार दैनिक भास्कर के मुताबिक 7 जून तक भारत में प्री-मानसूनी बारिश 37 फीसदी कम हुई. जबकि पिछले दो हफ्ते से पूर्वोत्तर के राज्यों में लगातार बारिश हो रही है. देश के कई राज्यों में प्री मानसूनी बारिश अभी तक 94% कम हुई है. यहीं वजह है कि उत्तर और मध्य भारत में फिर से लू चलनी शुरू हो गई है. और ये अगले 2-3 दिनों तक जारी रह सकती है.

कमज़ोर हुआ मानसून?
इस बीच दक्षिण पश्चिम मानसून तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकाल और बंगाल की खाड़ी के दक्षिण पश्चिम और पश्चिम मध्य हिस्सों में आगे बढ़ा. मानसून के कम से कम अगले एक सप्ताह में कमजोर रहने के आसार हैं और 15 जून के बाद रफ्तार पकड़ने के बाद अच्छी बारिश की संभावना है. मौसम विभाग ने कहा कि अगले दो-तीन दिनों तक पश्चिमोत्तर और मध्य भारत में अधिकतम तामपान में किसी बड़े बदलाव की कोई गुजाइंश नहीं है और उसके बाद पारा दो से तीन डिग्री तक लुढ़क सकता है.

तापमान में 8.5 डिग्री का अंतर
अखबार के मुताबिक दिल्ली के लोधी रोड में दो दिन पहले न्यूनतम तापमान 25.2 डिग्री दर्ज हुआ था. जबकि यहां से सिर्फ 18 किलोमीटर दूर पीतमपुरा में न्यूनतम तापमान 33.7 डिग्री दर्ज किया गया. तापमान में इतने ज्यादा अंतर की वजह ‘अर्बन हीट आइलैंड’ का असर माना जा रहा है. एक्सपर्ट के मुताबिक घनी आबादी वाले इलाकों में ऊंची इमारतों के चलते हवा ठीक से नहीं आती है. कंक्रीट की इमारतें गर्मी को सोखकर रखती हैं.

Tags: Monsoon, Weather



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments