कलेक्टर बनाम पंचायतराज मंत्री विवाद पर बोले कटारिया- फ्रस्ट्रेशन में हैं अशोक गहलोत के मंत्री – jaipur gulab chand kataria said on collector vs minister ramesh meena controversy ministers of cm gehlot are in frustration – News18 हिंदी

0
16


हाइलाइट्स

सुखाड़िया और शेखावत के समय ब्यूरोक्रेसी से बेहतरीन तालमेल की मिसाल दी जाती है
ब्यूरोक्रेसी पर बेवजह निशाना साधना और सार्वजनिक रूप से अपमानित करना दुर्भाग्यपूर्ण

जयपुर. बीजेपी के वरिष्ठ नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया (Gulab chand Kataria) ने कहा है कि गहलोत सरकार के मंत्री फ्रस्ट्रेशन (Frustration) में हैं. वो मर्यादा भूल बैठे हैं. मंत्रियों को याद रखना चाहिए कि उनकी सीट स्थायी नहीं है. उन्होंने कहा कि मंत्री और वरिष्ठ अफसर (Minister and Officer) की भूमिका सरकार में पार्टनर की होती है. बीजेपी नेता कटारिया हाल ही में हुए पंचायत राज मंत्री रमेश मीणा और बीकानेर जिला कलेक्टर भगवती प्रसाद कलाल के बीच विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे थे.

उन्होंने कहा कि गहलोत सरकार के मंत्रियों को याद रखना चाहिए कि उनकी सीट स्थायी नहीं है. एक-दूसरे का अपमान करने से कुछ भी हासिल नहीं होगा. मंत्रियों को खुद विचार करना होगा कि क्या उनका आचरण सही है. मंत्रियों के व्यवहार और काम करने के सही तरीके से ही अधिकारियों पर नियंत्रण पाया जा सकता है. लेकिन ये दुर्भाग्य है कि इस सरकार में एक के बाद एक ऐसे मामले सामने आ रहे हैं, जिससे प्रदेश का विकास ठप हो गया है. उन्होंने कहा कि ब्यूरोक्रेसी पर बेवजह निशाना साधना और उन्हें सार्वजनिक रूप से अपमानित करना दुर्भाग्यपूर्ण है.

लिव इन रिलेशनशिप में रह रहे युवक की हत्या, महिला के पति ने तड़के जगाकर पीटा, कोई नहीं आया बचाने

आपके शहर से (जयपुर)

सतीश पूनियां बोले-यथा राजा तथा प्रजा
इधर बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने मंत्री रमेश मीणा और बीकानेर कलेक्टर के बीच हुए विवाद के लिए सीएम गहलोत को जिम्मेदार ठहराया है. पूनिया ने कहा कि कार्यपालिका और विधायिका का टकराव प्रदेश का विकास ठप कर रहा है. उन्होंने यथा राजा तथा प्रजा का कहावत का जिक्र करते हुए कहा कि सुखाड़िया और भैरोंसिह शेखावत के जमाने की आज भी ब्यूरोक्रेसी से लेकर बेहतरीन तालमेल की राजनीतिक गलियारों में मिसाल दी जाती है. लेकिन गहलोत इस बारे में विफल साबित हो चुके हैं. मंत्री बेलगाम हैं और अफसरों पर बिना वजह हमले कर रहे हैं. जबकि जनता सब सच जानती है.

कलक्टर को बाहर निकालने से आईएएस नाराज
काबिलेगौर है कि पंचायत राज मंत्री रमेश मीणा ने बीकानेर में एक कार्यक्रम के दौरान कलेक्टर भगवती प्रसाद कलाल को हॉल से बाहर निकाल दिया था. दरअसल, मीणा मंच से भाषण दे रहे थे. उस वक्त कलेक्टर मोबाइल फोन पर बात करने लगे. इससे मीणा नाराज हो गए और उन्होंने कलेक्टर से कहा कि आप यहां से जाइये. तब कलेक्टर बाहर चले गए. बाद में लोगों के बुलाने पर वापस आ गए. उधर, आईएएस एसोसिएशन ने घटना पर कड़ा विरोध जताते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चिट्ठी लिखी है.

Tags: Ashok Gehlot Government, Gulab Chandra Kataria, Jaipur news, Rajasthan news in hindi, Satish Poonia



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here