Monday, September 26, 2022
Homeदेशचीतों को जंगल में छोड़ने के पीएम मोदी के कार्यक्रम के दौरान...

चीतों को जंगल में छोड़ने के पीएम मोदी के कार्यक्रम के दौरान काटे गए थे पेड़? मप्र वन विभाग ने बताया सच


 नई दिल्ली.  मध्य प्रदेश वन विभाग (Forest Department) के अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि नामीबिया से लाए गए आठ चीतों को पिछले सप्ताह कूनो नेशनल पार्क (National Park) में छोड़े जाने के कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और करीब 300 अन्य अतिथियों के दौरे की तैयारियों के मद्देनजर पेड़ काटे जाने से जुड़ी मीडिया में आयी खबरें ‘फर्जी’ हैं. रिपोर्ट में दावा किया गया था कि राष्ट्रीय उद्यान में सिर्फ एक अतिथि गृह है, इसी कारण वीआईपी लोगों के ठहरने के लिए तंबू लगाए गए थे और इनके लिए जगह बनाने की खातिर ‘बड़ी संख्या में पेड़ों को काटा गया था.’

उसमें यह भी दावा किया गया है कि हेलीपैड बनाने के लिए भी पेड़ काटे गए थे. खबरों पर प्रतिक्रिया देते हुए राज्य के विभाग के एक अधिकारी ने बताया, ‘कूनो में हेलीपैड बनाने के लिए कोई पेड़ नहीं काट गया है. जिस जगह को चुना गया था, वहां पहले से ही पेड़ नहीं थे, और पेड़ काटे जाने से जुड़े खबरें पूरी तरह फर्जी हैं.’ उन्होंने कहा, ‘ना तो वहां 300 अतिथि थे और ना ही उनके ठहरने के लिए तंबू लगाए गए थे. वास्तविकता यह है कि सेसाईपुरा रिसॉर्ट में तंबू लगाए गए थे, जहां सभी अतिथि और अधिकारी रूके थे. कूनो राष्ट्रीय उद्यान में तंबू लगाने की खबरें फर्जी हैं.’

पीआईबी की ‘तथ्य सत्यापन शाखा’ ने ट्वीट कर दी जानकारी 

एक ट्वीट में पीआईबी की ‘तथ्य सत्यापन शाखा’ ने कहा है, ‘मीडिया में आयी फर्जी खबरों में दावा किया गया है कि आठ चीतों को कूनो वन्यजीव अभयारण्य में छोड़ने के लिए प्रधानमंत्री के साथ करीब 300 अतिथियों के दौरे के मद्देनजर बड़ी संख्या में पेड़ काटे गए हैं. सभी के रूकने का इंतजाम सेसाईपुरा एफआरएच और पर्यटन जंगल लॉज में किया गया था.’ प्रधानमंत्री मोदी ने नामीबिया से लाए गए आठ चीतों…. पांच मादा, तीन नर… को अपने जन्मदिन, 17 सितंबर को कूनो अभयारण्य में छोड़ा था.

Tags: Forest department, National Park



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments