धर्मांतरण: राजस्थान में सामूहिक विवाह सम्मेलन में 11 जोड़ों को कराया बौद्ध धर्म ग्रहण, दिलाई शपथ – conversion in rajasthan 11 couples left hinduism and accepted buddhism in mass marriage conference in bharatpur – News18 हिंदी

0
18


हाइलाइट्स

भरतपुर के कुम्हेर कस्बे में हुआ था आयोजन
संत रविदास सेवा विकास समिति का था आयोजन
विश्व हिन्दू परिषद और बजरंग दल ने जताया विरोध

दीपक पुरी.

भरतपुर. राजस्थान में धर्मांतरण (Conversion) का एक बार फिर से बड़ा मामला सामने आया है. प्रदेश के भरतपुर जिले के कुम्हेर कस्बे में सोमवार को एक सामूहिक विवाह सम्मेलन में 11 नवविवाहित जोड़ों का धर्मांतरण करवाया गया. इस मामले की भी पुलिस-प्रशासन को कोई खबर नहीं लग पाई. संत रविदास सेवा विकास समिति की ओर से आयोजित इस सामूहिक विवाह सम्मेलन में 11 जोड़ों को हिंदू देवी देवताओं को नहीं मानने की शपथ दिलाई गई. उसके बाद सभी जोड़ों ने बौद्ध धर्म (Buddhism) अपनाया. धर्म परिवर्तन कराने की वीडियोग्राफी भी कराई गई है.

जानकारी के अनुसार कुम्हेर कस्बे में रविदास सेवा विकास समिति की ओर से सोमवार को सामूहिक विवाह सम्मेलन का आयोजन किया गया था. इसमें 11 जोड़ों का रजिस्ट्रेशन हुआ था. इस सम्मेलन को लीड कर रहे शंकरलाल बौद्ध ने बताया कि 11 जोड़ों को 22 शपथ दिलाई गई है. शंकरलाल बौद्ध ने बताया कि बाबा भीमराव अंबेडकर द्वारा दोहराई गई 22 प्रतिज्ञा को वर-वधू को दिलाकर विवाह विवाह संपन्न कराया गया. इस सम्मेलन में डीग और कुम्हेर के अधिकारी भी मौजूद रहे थे. उनके वहां से जाने के बाद यह शपथ ग्रहण कार्यक्रम आयोजित कराया गया. सम्मेलन में कई जनप्रतिनिधियों ने भी शिरकत की थी. लेकिन शपथ ग्रहण से पहले वे सब भी वहां से जा चुके थे.

आपके शहर से (भरतपुर)

सामूहिक विवाह सम्मलेन में ये शपथ दिलाई गई
– मैं ब्रह्मा, विष्णु, महेश को कभी ईश्वर नहीं मानूंगा और न ही इनकी पूजा करूंगा.
– मैं राम को ईश्वर नहीं मानूंगा और न ही उनकी पूजा नहीं करूंगा.
– मैं गौरी गणपति आदि हिंदू धर्म के किसी भी देवी देवता को ईश्वर नहीं मानूंगा.
– मैं बुद्ध की पूजा करूंगा.
– ईश्वर ने अवतार लिया है उस पर मेरा विश्वास नहीं है.
– मैं ऐसा कभी नहीं कहूंगा कि भगवान बुद्ध विष्णु के अवतार हैं.
– मैं ऐसी प्रथा को पागलपन और झूठा समझता हूं.
– मैं कभी पिंड दान नहीं करूंगा.
– मैं बुद्ध धर्म के विरोध में कभी कोई बात नहीं करुंगा.

विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने जताई आपत्ति
पूरे मामले को लेकर विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने आपत्ति जताई है. उन्होंने कहा है कि सार्वजनिक मंच पर विवादित शपथ दिलाना देश की अखंडता के लिए खतरा है. पूर्व जिला प्रमुख राजवीर सिंह और विश्व हिंदू परिषद के जिला अध्यक्ष लाखन सिंह ने बताया कि इस तरह का कार्यक्रम होना गंभीर मामला है. इस पूरे मामले को लेकर प्रशासन को अवगत कराया जाएगा. ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए जो देश की अखंडता के लिए खतरा पैदा कर रहे हैं.

Tags: Bharatpur News, Buddhist, Hinduism, Rajasthan news, Religion change case



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here