Tuesday, June 28, 2022
Homeदेशनियमित सैनिक बनने के लिए अग्निवीर का कैसे होगा मूल्यांकन? थल सेना...

नियमित सैनिक बनने के लिए अग्निवीर का कैसे होगा मूल्यांकन? थल सेना उपप्रमुख ने बताया पूरा प्रॉसेस


अमृता नायक दत्ता, अमन शर्मा/नई दिल्ली: थल सेना उपप्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू ने News18 को बताया कि नई शुरू की गई अग्निपथ भर्ती योजना के माध्यम से भारतीय सशस्त्र बलों में शामिल होने वाले अग्निवीरों का स्थायी सैनिकों के रूप में चयन के लिए अंतिम योग्यता सूची तैयार करने से पहले 4 वर्षों की सेवा के दौरान कई उद्देश्य और व्यक्तिपरक मापदंडों पर लगातार उनका मूल्यांकन किया जाएगा. News18 को दिए एक्लुसिव इंटरव्यू में, लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू ने 4 साल की सेवा के बाद 25 प्रतिशत अग्निवीरों को नियमित करने की प्रक्रिया क्या होगी, इसको लेकर उठ रहे सवालों का जवाब दिया.

उन्होंने कहा, ‘हम समझते हैं कि 4 साल के अंत में, प्रत्येक अग्निवीर को यह विश्वास होगा कि वह एक पारदर्शी प्रक्रिया से गुजरा है. हमने रंगरूटों के परीक्षण के लिए बहुत विशिष्ट प्रावधान किए हैं. यह एक सतत मूल्यांकन होगा.’ यह बताते हुए कि सेना कैसे सुनिश्चित करेगी कि स्थायी रंगरूटों के रूप में अग्निवीरों का चयन बिना पक्षपात और अस्वास्थ्यकर प्रतिस्पर्धा के निष्पक्ष रूप से किया गया है, लेफ्टिनेंट जनरल राजू ने कहा, ‘6 महीने की प्रशिक्षण अवधि पूरा करने के बाद प्रत्येक अग्निवीर का पहला मूल्यांकन होगा. फिर प्रत्येक वर्ष के अंत में, उनकी शारीरिक फिटनेस, फायरिंग स्किल और अन्य ड्रिल्स जैसे विभिन्न मापदंडों के आधार पर उनका मूल्यांकन किया जाएगा.’

लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू ने कहा कि अग्निवीरों का उनके रवैये और योग्यता जैसे मापदंडों पर कुछ व्यक्तिपरक मूल्यांकन भी होगा. अग्निवीर अपनी सर्विस के दौरान जिन लोगों के साथ बातचीत करेंगे, जैसे उनके प्लाटून कमांडर, कंपनी कमांडर और कमांडिंग ऑफिसर, वे उपरोक्त मानदंडों के आधार पर उनका मूल्यांकन करेंगे. थल सेना उपप्रमुख ने कहा, ‘यह सब एक साथ रखा जाएगा और साल के अंत में, इसे समेट कर सिस्टम में अपलोड कर दिया जाएगा, जिसके बाद कोई मानवीय हस्तक्षेप नहीं होगा. दूसरे और तीसरे वर्ष के अंत में भी यही प्रक्रिया अपनाई जाएगी और 4 साल के अंत में, पूरे डेटा को एक साथ रखा जाएगा और फिर मेरिट सूची तैयार की जाएगी. इससे हमें यह विश्वास भी मिलेगा कि हम सर्वश्रेष्ठ सैनिकों का चयन कर रहे हैं.’

लेफ्टिनेंट जनरल राजू ने कहा कि उनके प्रशिक्षण अवधि के दौरान एक अग्निवीर को परामर्श दिया जाएगा और प्रदर्शन मूल्यांकन दिया जाएगा. पूरा विचार निरंतर मूल्यांकन का है. उन्होंने कहा, मूल्यांकन की यह प्रक्रिया अग्निवीर के सेवा अवधि के दौरान विभिन्न चरणों में पूरी होगी, जिसमें प्रशिक्षण अवधि और उसके बाद के वर्षों के लिए अलग-अलग वेटेज शामिल है. सेना में महिला सैनिकों को अग्निवीर के रूप में शामिल करने के बारे में पूछे जाने पर, उन्होंने कहा कि महिला रंगरूट अग्निपथ योजना के माध्यम से सेना की सैन्य पुलिस कोर (CMP) में शामिल होंगी. अन्य भर्तियों की तरह सीएमपी में महिलाओं की भर्ती शुरुआती बैच के बाद 2 साल से अटकी हुई है.

अग्निवीरों के लिए 4 साल की प्रशिक्षण अवधि पर्याप्त है?
सैनिक के रूप में अग्निवीरों के प्रशिक्षण के बारे में बात करते हुए लेफ्टिनेंट जनरल राजू ने कहा कि उनके प्रशिक्षण के लिए 4 साल का लंबा समय है. उन्होंने कहा कि अग्निवीरों को 6 महीने का गहन प्रशिक्षण दिया जाएगा. फिर आवश्यकताओं के आधार पर, बटालियन कमांडर प्रत्येक अग्निवीर को विभिन्न स्किल सेट विकसित करने के लिए प्रशिक्षण की व्यवस्था करेंगे. उन्हें पर्याप्त प्रशिक्षित किया जाएगा ताकि बटालियन की परिचालन आवश्यकता को पूरा किया जा सके और हम कल को उसी के साथ युद्ध में जा सकें. लेफ्टिनेंट जनरल राजू ने कहा एक उन्नत पाठ्यक्रम के लिए, जैसे प्रशिक्षक बनने के लिए एक अग्निवीर 4 साल बाद और अधिक कुशल बनाया जा सकता है. 4 साल के दौरान अग्निवीरों की अपस्किलिंग होगी, लेकिन प्रशिक्षक बनने के लिए विशेष प्रशिक्षण 4 साल बाद दिया जाएगा.

‘योजना को नियंत्रित तरीके से शुरू किया जा रहा है’
लेफ्टिनेंट जनरल राजू ने कहा कि जिस तरह से अग्निपथ परियोजना शुरू की जा रही है वह बहुत नियंत्रित तरीके से है और यही कारण है कि इसे एक पायलट परियोजना के रूप में समझा जा सकता है. हमें इसका बेहतर आकलन करने और आवश्यकता पड़ने पर बदलाव करने का समय भी मिलेगा. किसी बदलाव की तत्काल आवश्यकता नहीं है, लेकिन आगे चलकर अगर कुछ बदलाव की आवश्यकता है, तो यह किया जा सकता है. उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि रक्षा मंत्री के लिए योजना में किसी और बदलाव की मांग करने का प्रावधान मौजूद है.

‘अग्निपथ योजना’ लागू करने के लिए होने वाले व्यय पर
अग्निपथ योजना की घोषणा के बाद युवाओं द्वारा इसका तेज विरोध होने के बावजूद लेफ्टिनेंट जनरल राजू ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि लोग हमेशा की तरह सशस्त्र बलों में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में आएंगे. उन्होंने कहा कि इस पूरे प्रोग्राम को लेकर युवाओं की प्रतिक्रिया सकारात्मक होगी. योजना के कार्यान्वयन पर होने वाले खर्च और बचत के बारे में बात करते हुए, उन्होंने कहा कि इसके बजाय मानव पूंजी का प्रबंधन और युवा आयु प्रोफाइल प्राप्त करने के लिए आवश्यक परिवर्तन, चयन और प्रशिक्षण प्रणाली के पैरामीटर, और अन्य ऐसे मुद्दों को प्राथमिकता दी गई है. उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत तत्काल कोई राजस्व व्यय नहीं किया जाएगा, क्योंकि सेना की प्रशिक्षण क्षमता भर्ती की गई संख्या से अधिक है. उन्होंने कहा, ‘छठे या सातवें वर्ष के बाद प्रशिक्षण क्षमता बढ़ाने की आवश्यकता हो सकती है, और स्थिति के आकलन के आधार पर बुनियादी ढांचे को बढ़ाया जा सकता है.’

सेना में मैनपावर कम करने पर
लेफ्टिनेंट जनरल राजू ने कहा कि सेना इस योजना के माध्यम से मैनपावर की कमी को पूरा करेगी. उन्होंने कहा, ‘पिछले दो वर्षों में कोई भर्ती नहीं हुई थी और इससे संख्या में कुछ कमी आई थी. अब, हम एक एक्जिट पॉलिसी के साथ एक विशेष संख्या में भर्ती कर रहे हैं. इसका समग्र शक्ति पर कुछ प्रभाव पड़ेगा, लेकिन जैसे-जैसे हम आगे बढ़ेंगे, हम संख्या बढ़ाएंगे ताकि सेना की ताकत वांछित स्तर पर बनी रहे.’

अग्निवीर कौशल प्रमाण पत्र पर
सेना के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि डिप्लोमा के साथ बल में शामिल होने वालों के लिए, कार्यक्रम के दौरान हासिल की गई अतिरिक्त कौशल योग्यता उन्हें डिग्री कोर्स के लिए योग्य बनाएगी. उन्होंने कहा कि अग्निवीर सेना में अपने कार्यकाल के दौरान क्रेडिट अंक एकत्र करेंगे, जिसे बाद में कम वर्षों के भीतर स्नातक पूरा करने के लिए भुनाया जा सकता है. यह पूछे जाने पर कि स्थायी नौकरी और पेंशन की गारंटी के बिना सेना एक भारतीय ग्रामीण युवा को बल में शामिल होने के लिए कैसे मनाएगी? उन्होंने कहा कि यह योजना युवाओं को 4 साल के लिए सशस्त्र बलों में शामिल होने का मौका देने के लिए तैयार की गई है. युवा सेना में सेवा करने की कठोरता और राष्ट्र सेवा का आनंद लें. उन्होंने कहा, ‘अग्निवीर को कार्यकाल के दौरान आर्थिक रूप से मुआवजा दिया जाएगा, उनके कार्यकाल के अंत में सेवा निधि पैकेज से एकमुश्त राशि प्राप्त होगी, और करियर चुनने के लिए ढेरों विकल्प मौजूद होंगे.’

Tags: Agneepath, Agniveer, Indian Armed Forces



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments