फलों-सब्जियों की कीमतों में उछाल ने नवरात्रि का रंग किया फीका, दिल्ली- NCR में एक सेब 30 रुपये और एक केला मिल रहा है 7 रुपये में

0
10


नई दिल्ली. दिल्ली-एनसीआर (Delhi- NCR) सहित देश के कई हिस्सों में नवरात्रि (Navaratri) शुरू होते ही फलों और सब्जियों की कीमतों (Prices of Fruits and Vegetables) में उछाल आ गया है. नवरात्रि में व्रत के दौरान लोग फलाहार के लिए फल खरीदते हैं. ऐसे में खासकर सेब और केला (Apple and Banana) के दाम इस समय आसमान छू रहे हैं. दिल्ली-एनसीआर के बाजारों में कुछ दिन पहले तक जो केला 50-60 रुपये दर्जन मिल रहा था, वही केला अब 70-80 रुपये तक पहुंच गया है. सेब का भी यही हाल है. सेबों के अलग-अलग वेरायटी में प्रति किलो 20-40 रुपये का इजाफा हुआ है. वहीं, सब्जियों की बात करें तो लौकी, आलू, खीरा, हरा धनिया और भी कई तरह के हरी सब्जियों के रेट में 5 से 15 रुपये बढ़ गए हैं.

नवरात्रि के दौरान अक्सर फलों और सब्जियों के दाम बढ़ जाते हैं. हालांकि, पिछले दो-तीन सालों की तुलना में इस बार सब्जियों और फलों के दाम ज्यादा बढ़े हैं. सब्जियों और फलों के रेट में जो इजाफा हुआ है उसके पीछे बारिश के कारण आवक में कमी को बताया जा रहा है. इस कारण अच्छे क्वालिटी का केला और सेब काफी महंगा हो गया है.

बाजारों में कुछ दिन पहले तक जो केला 50-60 रुपये दर्जन मिल रहा था, वही केला अब 70-80 रुपये तक पहुंच गया है. 

फलों और सब्जियों के रेट में आया उछाल
अगर सेब की बात करें तो बीते पांच दिनों में सेब के दाम में जबरदस्त इजाफा हुआ है. आपको बता दें कि आजादपुर मंडी में सेबी की 25 किलो की पैकेट 1300 से 1400 रुपये के बीच हुआ करती थी, जो अब बढ़कर 1700 से 1800 रुपये की हो गई है. एक किलो में अच्छा सेब 4 से 5 चढ़ता है. ऐसे में अगर हिसाब लगाएंगे तो पता चलेगा कि एक सेब 30 रुपये का आ रहा है. इसी तरह एक केला 7 रुपये में पड़ रहा है. बाजार में अच्छा सेब 150 के पार हो गया है. आप अगर बढ़िया सेब खरीदना चाह रहे हैं तो आपको 200 रुपये तक पैसा खर्च करना पड़ सकता है.

प्याज के दाम में आई स्थिरता
इसी तरह सब्जियों के दाम में भी उछाल आया है. हालांकि, प्याज, लहसुन के दाम न घटें और न बढ़ें हैं, लेकिन लौकी, आलू, खीरा और गाजर के दाम बढ़ गए हैं. चार दिन पहले तक बढ़िया लौकी 40-50 रुपये किलो मिल जाती थी, लेकिन अब लौकी 60 रुपये किलो मिल रहा है.

पितृपक्ष के दौरान आलू, मूली, अरबी और कंद वाली सब्जियां ना तो पितरों को नहीं चढ़ाई जाती हैं और ना ही ब्राह्मण भोज में परोसी जाती है. इससे पितृ नाराज होकर श्राद्ध ग्रहण नहीं करते.

पितृपक्ष के दौरान आलू, मूली, अरबी और कंद वाली सब्जियां ना तो पितरों को नहीं चढ़ाई जाती हैं और ना ही ब्राह्मण भोज में परोसी जाती है. इससे पितृ नाराज होकर श्राद्ध ग्रहण नहीं करते.

ये भी पढ़ें: ईपीएफ की तरह NPS खाता क्यों नहीं खुलवाती सरकार? किस स्कीम में मिलता है कर्मचारियों को ज्यादा मुनाफा

कुलमिलाकर बाजारों में दो साल बाद त्योहारों को लेकर रौनक तो जरूर लौटी है, लेकिन महंगाई ने कोहराम मचा रखा है. खासकर मीडिल क्लास के लोगों को इस बढ़ती महंगाई ने कमर तोड़ दी है. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि यह स्थिति कम से कम दिवाली तक न रहे.

Tags: Apple, Delhi-NCR News, Fruits, Inflation, Navratri, Vegetable prices



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here