Tuesday, June 28, 2022
Homeदेशबड़ा विरोधाभास: जिस हिंदुत्‍व का सीएम उद्धव ठाकरे समर्थन करते हैं, उस...

बड़ा विरोधाभास: जिस हिंदुत्‍व का सीएम उद्धव ठाकरे समर्थन करते हैं, उस पर राहुल गांधी हमला करते हैं


नई दिल्‍ली. महाराष्‍ट्र (Maharashtra) के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) ने बुधवार को कहा कि उनकी पार्टी शिवसेना (Shivsena) हिंदुत्‍व के रास्‍ते पर ही रहेगी. इस मुद्दे को लेकर शिवसेना में उद्धव ठाकरे के सहयोगियों ने जमकर हमला बोला है और यहां तक की सरकार में उनके गठबंधन सहयोगी कांग्रेस के प्रमुख नेता राहुल गांधी (Congress leader Rahul Gandhi)  भी विचारधारा की आलोचना करते रहे हैं. उनका कहना है कि यह विचारधारा केवल सत्‍ता चाहती है. दरअसल यह घटनाक्रम केवल गठबंधन के अंदर मची खींचतान को तेज कर रहा है. इस मुद्दे को बागी नेता एकनाथ शिंदे और 33 अन्‍य विधायकों के एक संयुक्‍त पत्र में उजागर किया गया है.

इस पत्र और इसमें उठाए गए मुद्दे के पलटवार में मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि कुछ लोग हमारे हिंदुत्‍व पर सवाल उठा रहे हैं. शिवसेना और हिंदुत्‍व एक ही सिक्‍के के दो पहलू हैं. कुछ का आरोप है कि अब यह बालासाहेब की शिवसेना नहीं है. हम बालासाहेब के ही विचार लेकर चल रहे हैं. शिवसेना ने हिंदुत्व के लिए बहुत कुछ किया है. हालांकि, राहुल गांधी ने पिछले कुछ महीनों में हिंदुत्व की बार-बार आलोचना की है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इसे हिंदू धर्म से अलग बताया था. गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी, महाराष्ट्र की महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार में एक प्रमुख सहयोगी है.

हिंदु धर्म सत्‍य के लिए और हिंदुत्‍व सत्‍ता के लिए: राहुल गांधी 

राहुल गांधी ने पिछले साल कांग्रेस के एक प्रशिक्षण शिविर में कहा था कि ‘क्या हिंदू धर्म सिख या मुसलमान को पीटने के बारे में है? हिंदुत्व बेशक है. हिंदू धर्म सत्य (सत्य) के लिए है, हिंदुत्व सत्ता चाहता है. जो चुनौतियों का सामना करते हैं वे हिंदू हैं और जो डर के मारे समस्याओं से भागते हैं, वे हिंदुत्व का अनुसरण करते हैं.’ राहुल ने कहा था कि हिंदुत्व की विचारधारा को मानने वाले किसी के भी आगे झुक जाते हैं.

‘भारत हिंदुओं का देश, न कि हिंदुत्‍ववादियों का’ 

राहुल गांधी ने कहा था कि वे अंग्रेजों के सामने झुके और पैसे के आगे झुक गए क्योंकि उनके दिल में कोई सच्चाई नहीं है. राहुल ने एक अन्‍य मौके पर यह भी कहा था कि भारत, हिंदुओं का देश है न कि ‘हिंदुत्ववादियों’ का, जो सत्ता में बने रहने के लिए कुछ भी कर सकते हैं. कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने कहा था कि 2014 से, हिंदुत्ववादी सत्ता में हैं, न कि हिंदू. हमें उन्हें बाहर निकालना होगा और हिंदुओं के शासन लाने की जरूरत है. महात्मा गांधी हिंदू थे, और गोडसे हिंदुत्ववादी थे.

एकनाथ शिंदे और 33 अन्य विधायकों के संयुक्‍त पत्र के बाद मची खलबली

शिवसेना नेता और महाराष्‍ट्र सरकार में मंत्री एकनाथ शिंदे और 33 अन्य विधायकों ने बुधवार को अपने पत्र में एमवीए गठबंधन में ऐसे अंतर्विरोधों को उजागर किया है. इस संयुक्‍त पत्र में कहा गया है कि हमारी पार्टी शिवसेना के कार्यकर्ताओं में एनसीपी और कांग्रेस के साथ सरकार बनाने के बाद से भारी असंतोष है. ये पार्टियां, वैचारिक रूप से हमारी पार्टी की विरोधी हैं. सत्ता हासिल करने के लिए हमारी पार्टी के सिद्धांतों पर समझौता किया गया जबकि हमारी पार्टी का एक उग्र वैचारिक आधार है. हमारी पार्टी के नेता बालासाहेब ठाकरे की विचारधारा हिंदुत्व के सिद्धांत से समझौता करने की नहीं थी, जिसे पहले दिन ही विरोधी विचारधाराओं के साथ जोड़कर पराजित किया गया.

Tags: CM Uddhav Thackeray, Congress leader Rahul Gandhi, Shivsena



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments