Saturday, June 25, 2022
Homeदेशभर्तियों में धांधली को लेकर सीबीआई ने कसा यूपीपीएससी पर शिकंजा, 2...

भर्तियों में धांधली को लेकर सीबीआई ने कसा यूपीपीएससी पर शिकंजा, 2 अफसर दिल्ली तलब


प्रयागराज. उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की भर्तियों में हुई गड़बड़ी की जांच कर रही सीबीआई ने आयोग के दो अधिकारियों को दिल्ली तलब किया है. सीबीआई ने आयोग को पत्र भेजकर सेक्शन अफसर स्तर के दो अधिकारियों को 9 से 16 जून तक दिल्ली में रहने के लिए कहा है. अधिकारी पीसीएस 2013 की परीक्षा से संबंधित डाक्यूमेंट्स के साथ दिल्ली तलब किए गए हैं. सीबीआई का पत्र पहुंचने के बाद आयोग में हड़कंप मचा हुआ है. सीबीआई का पत्र मिलने के बाद सीबीआई के सामने पेश होने के लिए अधिकारियों ने अपनी तैयारी भी शुरू कर दी है. सीबीआई के समक्ष पेश करने के लिए जरूरी डॉक्यूमेंट जुटाए जा रहे हैं. जिससे सीबीआई के सवालों के जवाब दिए जा सकें.

वहीं अभी ये नहीं बताया गया है कि आयोग की तरफ से वे कौन से दो ‌अधिकारी होंगे जो सीबीआई के समक्ष पेश होंगे. हालांकि आयोग के दफ्तर में 2012 से 2017 तक की भर्तियों के संबंध में दस्तावेज जुटाए जा रहे हैं. सूत्रों के हवाले से खबर है कि अधिकारियों ने सीबीआई के सवालों का जवाब देने के लिए अपनी तैयारी भी शुरू कर दी है और दो अधिकारियों को लगातार पुरानी भर्तियों के संबंध में पूरी जानकारी दी जा रही है.

गौरतलब है कि योगी सरकार की संस्तुति पर सीबीआई यूपी लोक सेवा आयोग में सपा शासन काल में हुई भर्तियों की जांच कर रही है. यूपीपीएससी के पूर्व अध्यक्ष अनिल यादव के कार्यकाल में हुई करीब 36 हजार भर्तियां सीबीआई जांच के दायरे में हैं. लोक सेवा आयोग की ओर से 1 अप्रैल 2012 से 31 मार्च 2017 के बीच आयोजित की गई परीक्षाओं की सीबीआई जांच की अधिसूचना 21 नवंबर 2017 को जारी की थी. इन परीक्षाओं में व्यापक स्तर पर धांधली और अनियमितता का आरोप है. प्रतियोगी छात्रों द्वारा आरटीआई में मांगी गई सूचना से पता चला है कि, इस दौरान कुल 35779 नियुक्तियां की गई हैं.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : June 08, 2022, 17:34 IST



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments