Tuesday, June 28, 2022
Homeदेशभारत और ईरान ने कारोबार, सम्पर्क सहित द्विपक्षीय संबंधों के सभी आयामों...

भारत और ईरान ने कारोबार, सम्पर्क सहित द्विपक्षीय संबंधों के सभी आयामों पर की चर्चा


नई दिल्ली: भारत की यात्रा पर आए ईरान के विदेश मंत्री हुसैन अमीर अब्दुल्लाहियन ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात की. दोनों पक्षों ने लंबे समय से चली आ रही सभ्यतागत एवं सांस्कृतिक संबंधों को प्रगाढ़ करने के अलावा करोबार, सम्पर्क सहित द्विपक्षीय संबंधों के सम्पूर्ण आयामों पर चर्चा की. जयशंकर और ईरानी विदेश मंत्री अब्दुल्लाहियन के बीच बैठक के दौरान चाबहार बंदरगाह, अफगानिस्तान, यूक्रेन एवं अन्य क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों पर चर्चा हुई. इसके साथ ही उन्होंने करोबार, स्वास्थ्य, लोगों के बीच सम्पर्क सहित द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा की.

ईरान के विदेश मंत्री की भारत यात्रा ऐसे समय हुई है, जब भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दो पूर्व पदाधिकारियों की पैगंबर मोहम्मद पर की गई विवादास्पद टिप्पणी को लेकर पश्चिम एशिया के देशों द्वारा आक्रोश व्यक्त किया जा रहा है. विदेश मंत्रालय के बयान के अनुसार, शिष्टमंडल स्तर की वार्ता के दौरान दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने क्षेत्रीय सम्पर्क के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग के महत्व को रेखांकित किया और चाबहार बंदरगाह के शहीद बेहेशस्ती टर्मिनल की प्रगति की समीक्षा की. इसमें कहा गया है, ‘दोनों पक्षों ने इस बात पर सहमति व्यक्त की कि चाबहार बंदरगाह ने अफगानिस्तान को समुद्र तक जरूरी पहुंच मुहैया कराया है और पश्चिम एशिया सहित क्षेत्र के लिये यह वाणिज्यिक पारगमन केंद्र के रूप में उभरा है.’

बयान के अनुसार, दोनों पक्षों ने चाबहार बंदरगाह के विकास के लिये सहयोग जारी रखने की प्रतिबद्धता दोहराई. इस संबंध में परिचालनात्मक आयामों से जुड़े विषयों पर दोनों देशों के दल जल्द ही बैठक करेंगे. दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने अफगानिस्तान सहित अंतरराष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा की और अफगानिस्तान के लोगों को तत्काल मानवीय सहायता पहुंचाने के महत्व की पुन: पुष्टि की. दोनों देशों ने शांतिपूर्ण, सुरक्षित एवं स्थिर अफगानिस्तान के लिये प्रतिनिधित्वकारी एवं समावेशी राजनीतिक व्यवस्था की जरूरत को रेखांकित किया. बयान के अनुसार, शिष्टमंडल स्तर की वार्ता में दोनों मंत्रियों ने राजनीतिक, सांस्कृतिक, लोगों के बीच सम्पर्क सहित द्विपक्षीय संबंधों के सभी आयामों पर चर्चा की.

जयशंकर ने ईरान में रह रहे अफगानिस्तान के नागरिकों को कोविड-19 टीके की आपूर्ति करने सहित अफगानिस्तान के लोगों को भारतीय चिकित्सा सहायता पहुंचाने में सहयोग के लिये तेहरान की भूमिका की सराहना की. ईरान के विदेश मंत्री ने जयशंकर को संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) के संबंध में वर्तमान स्थिति की जानकारी दी। दोनों मंत्रियों ने यूक्रेन संकट और उसके प्रभावों के बारे में भी चर्चा की. ईरान के विदेश मंत्री हुसैन अमीर अब्दुल्लाहियन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शिष्टाचार भेंट की. प्रधानमंत्री कार्यालय के बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी ने भारत और ईरान के बीच लंबे समय से चली आ रही सभ्यता और सांस्कृतिक संबंधों को गर्मजोशी से याद किया. दोनों नेताओं ने चल रही द्विपक्षीय सहयोग की पहल पर चर्चा की.

प्रधानमंत्री ने जोर देते हुए कहा कि दोनों देशों को कोविड के बाद के युग में आदान-प्रदान में तेजी लाने के लिए काम करना चाहिए. बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री ने ईरान के विदेश मंत्री से राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी को भी अपनी बधाई भेजने का अनुरोध किया और ईरान के राष्ट्रपति से जल्द से जल्द मुलाकात करने की आशा जताई. विदेश मंत्रालय के बयान के अनुसार, ईरान के विदेश मंत्री ने भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित कुमार डोवाल के साथ भी बैठक की. बैठक के बाद विदेश मंत्री जयशंकर ने ट्वीट किया, ‘ईरान के विदेश मंत्री आमिर अब्दुल्लाहियन के साथ विविध विषयों पर व्यापक चर्चा हुई. हमने करोबार, सम्पर्क, स्वास्थ्य, लोगों के बीच सम्पर्क सहित द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा की.’ विदेश मंत्री ने कहा, ‘अफगानिस्तान, यूक्रेन, संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) सहित क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों पर विचारों का आदान प्रदान किया.’

Tags: EAM S Jaishankar, Iran





Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments