राजस्थान: पूर्व राज्यमंत्री की 21 साल की बेटी का अपहरण, झाड़ियों में मिली स्कूटी, हड़कंप मचा – kidnapped of 21 year old daughter of former rajasthan minister of state and congress leader gopal kesawat shocking crime – News18 हिंदी

0
19


हाइलाइट्स

सब्जी लेने के लिए घर से स्कूटी पर गई थी
पिता को फोनकर बताया था कि कुछ लड़के पीछे पड़े हैं
20 घंटे बाद भी अभी तक पुलिस को उसका कोई सीसीटीवी फुटेज नहीं मिला है

जयपुर. राजस्थान की पिछली कांग्रेस सरकार में राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त राजस्थान घुमंतू जाति बोर्ड के अध्यक्ष रहे एवं कांग्रेस नेता गोपाल केसावत (Congress leader Gopal Kesawat) की 21 वर्षीय बेटी अभिलाषा केसावत (21) के अपहरण (Kidnapped) का चौंकाने वाला मामला सामने आया है. वारदात के समय बेटी ने केसावत को फोन भी किया था और कहा था कि कुछ लड़के उसका पीछा कर रहे हैं. पापा जल्दी आ जाओ. केसावत ने सोमवार देर रात प्रताप नगर थाने में अज्ञात बदमाशों के खिलाफ बेटी को अपहरण करने का मामला दर्ज कराया है. वहीं सीएसटी और पुलिस की टीमें​​​ पूर्व मंत्री की बेटी​ की तलाश में जुटी लेकिन अभी तक उसका कोई सुराग नहीं लग पाया है.

प्रताप नगर थाने में दर्ज कराई गई रिपोर्ट में बताया गया कि अभिलाषा सोमवार शाम को स्कूटी से सब्जी लेने के लिए एनआरआई सर्किल तक गई थी. लेकिन जब वह काफी देर तक वापस नहीं लौटी तो परिजनों ने उसे ढूंढना शुरू किया. अभिलाषा का जब कुछ पता नहीं लगा तो परिजन रात को थाने पहुंचे और मामला दर्ज कराया. उसके बाद मंगलवार को सुबह अभिलाषा की स्कूटी एयरपोर्ट रोड पर लावारिस हालत में खड़ी हुई मिली है.

15 घंटे बाद भी फुटेज नहीं मिले
प्रतापनगर थानाप्रभारी भजनलाल ने बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए हर पहलू से जांच की जा रही है. वारदात स्थल के आसपास लगे हुए सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को खंगाला जा रहा है. वहीं, केसावत ने पुलिस कमिशनर आनंद श्रीवास्तव और एडिशनल पुलिस कमिश्नर अजयपाल लांबा से मिलकर जल्द से जल्द बेटी को ढूंढने की मांग की. उन्होंने कहा कि अगर किसी वीवीआईपी की बेटी या डॉग होता तो उसका सीसीटीवी मिल जाता. लेकिन 20 घंटे बाद भी हमें फुटेज या लोकेशन तक ट्रैस करके नहीं बताया गया है. केसावत ने कहा कि उन्होंने अधिकारियों से मांग है कि वे बेटी को सकुशल लेकर आएं.

आपके शहर से (जयपुर)

पहले भी हुआ था हमला
केसावत ने बताया कि उन्होंने पूर्व में भी डीजीपी को पत्र लिखकर खुद की और अपने परिवार की जान को खतरा बताया था. बेटी के अपहरण के तीन दिन पहले भी उन्होंने प्रतापनगर थानाधिकारी को ज्ञापन देकर सुरक्षा की मांग की थी. बेटी के अपहरण मामले में गोपाल केसावत ने कुछ संदिग्ध लोगों के नाम भी प्रतापनगर थाना इंचार्ज को बताए हैं. केसावत ने कहा कि दो-तीन महीने पहले उनकी गाड़ी के शीशे तोड़े गए थे. उस समय भी सुरक्षा की मांग की थी.

शाम को साढ़े पांच बजे गई थी सब्जी मंडी
पूर्व राज्यमंत्री गोपाल केसावत ने पुलिस को बताया कि अभिलाषा सोमवार शाम को 5.30 बजे घर से निकली थी. इसके बाद 6.05 पर उसने उनको फोन करके कहा था कि पापा उसके पीछे लड़के पड़ गए. तुरंत गाड़ी लेकर आओ. इस पर परिवार के अन्य सदस्यों के साथ वे तुरंत गाड़ी लेकर एनआरआई सर्किल के पास पहुंचे लेकिन वहां र न तो उनको बेटी मिली और न ही उसकी स्कूटी. बेटी को फोन लगाया तो उसका मोबाइल स्विच ऑफ आया.

स्कूटी झाड़ियों में एक्सीडेंट की हालत में मिली
इसके बाद अपने रिश्तेदारों और परिचितों के साथ मिलकर आसपास का पूरा इलाका छान मारा, लेकिन कहीं पर भी बेटी का कोई सुराग नहीं मिला. इसके बाद देर रात प्रतापनगर थाने पहुंचकर मामला दर्ज कराया गया. मंगलवार को ढूंढते ढूंढते एयरपोर्ट रोड पर बेटी की स्कूटी झाड़ियों में एक्सीडेंट की हालत में मिली. फिलहाल पुलिस एनआरआई सर्किल के साथ-साथ जिस स्थान पर स्कूटी बरामद हुई है वहां तक लगे तमाम सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को खंगाल रही है. गोपाल केसावत कांग्रेस के पुराने कार्यकर्ता होने के साथ ही अशोक गहलोत की पिछली सरकार में राजस्थान घुमंतू जाति बोर्ड के अध्यक्ष रहे थे. उनको राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त था.

Tags: Crime News, Jaipur news, Kidnapping Case, Rajasthan news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here