Thursday, June 30, 2022
Homeदेशरेलवे चलाएगा श्रीरामायण यात्रा की तरह मथुरा सर्किट ट्रेन, जानें योजना

रेलवे चलाएगा श्रीरामायण यात्रा की तरह मथुरा सर्किट ट्रेन, जानें योजना


नई दिल्‍ली. भारतीय रेल (Indian Railway) ‘श्री रामायण यात्रा’ ट्रेन ( Shri Ramayana Yatra rail) की तरह मथुरा सर्किट ट्रेन चलाने की तैयारी कर रहा है. यह ट्रेन भी भारत गौरव टूरिस्‍ट ट्रेन के तहत चलाई जाएगी, जो भगवान श्रीकृष्‍ण से संबंधित स्थानों के दर्शन कराएगी. पर्यटन मंत्री जी. किशन रेड्डी ने पहली भारत गौरव ट्रेन (Bharat Gaurav train) के शुभारंभ के मौके पर इससे संबंधित सकेत दे दिए हैं.

भगवान श्रीराम से संबंधित ट्रेन का सफल संचालन शुरू होने के बाद भारतीय रेलवे ने इस दिशा में एक और कदम बढ़ा दिया है. अब लोग एक ही ट्रेन में सवार होकर भगवान श्रीकृष्‍ण से संबंधित स्‍थानों के दर्शन कर पाएंगे. रेलवे मथुरा सर्किट ट्रेन चलाएगा.  इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्‍म कारपोरेशन (Indian Railway Catering and Tourism Corporation) इस सर्किट से संबंधित ट्रेन चलाने की तैयारी शुरू कर दी है.

रेलवे बोर्ड के अधिकारियों के अनुसार मथुरा सर्किट किन किन स्‍थानों से होकर गुजरेगी, जल्‍द ही फैसला कर लिया जाएगा. रूट को लेकर मंथन शुरू हो चुका है. कोशिश की जाएगी कि भगवान श्री कृष्‍ण से संबंधित सभी प्रमुख स्‍थान इस सर्किट में कवर कर लिए जाए, जिससे ट्रेन में सफर करने वाले श्रद्धालु पूरी तरह से संतुष्‍ट हों.

सुविधाएं पहली ट्रेन जैसी

मथुरा सर्किट ट्रेन में सुविधाए पहली ट्रेन यानी श्रीरामायण यात्रा की तरह ही होंगी.ट्रेन में पेंट्री कार होगी, जिसमें पर्यटकों के लिए ताजा भोजन बनेगा. ट्रेन सीसीटीवी कैमरे से लैस होगी. सुरक्षा के लिए गार्ड भी मौजूद रहेंगे. ट्रेन के अलावा विभिन्‍न शहरों में रुकने के लिए एसी होटल में कमरों की व्‍यवस्‍था होगी. ट्रेन से बाहर खाना होटल, रेस्‍त्रां और बैंक्‍वेट में खाना और लोकल ट्रांसपोर्ट उपलब्‍ध कराया जाएगा.

श्रीरामायण यात्रा ट्रेन पर एक नजर

श्रीरामायण यात्रा के तहत चल रही ट्रेन 12 प्रमुख शहरों से होकर गुजरेगी, जो भगवान श्रीराम से संबंधित हैं, यहां पर यात्री इन धार्मिक स्‍थानों के दर्शन कर सकेंगे. इनमें अयोध्‍या,  बक्‍सर,जनकपुर, सीतामढ़ी, काशी, प्रयाग, चित्रकूट, नासिक,हम्‍पी, रामेश्‍वरम, कांचीपुरम और भद्रांचल शामिल हैं.

शहरों में भगवान राम से जुड़े ये हैं स्‍थान

अयोध्‍या- राम जन्‍मभूमि मंदिर,हनुमान गढ़ी, सरयू घाट, नंदीग्राम,भरत हनुमान मंदिर और भरत कुंड.

जनकपुर (नेपाल)- रामजाननकी मंदिर

सीतामढ़ी- जानकी मंदिर और पुराना धाम

बक्‍सर- राम रेखा घाट, रामेश्‍वरनाथ  मंदिर

वाराणसी- तुलसी मानस मंदिर, संकट मोचन मंदिर, विश्‍वनाथ मंदिर और गंगा आरती.

प्रयागराज-  सीता  समाहित स्‍थल,  सीतामढ़ी, भारद्वाज आश्रम,  गंगा-यमुना संगम और हनुमान  मंदिर .
श्रृंगवेरपुर- श्रिंगी ऋषि  आश्रम, शांता देवी मंदिर,  रामचौरा.

चित्रकूट-गुप्‍त गोदावरी, रामघाट, सती अनसुनिया मंदिर.

नासिक-ट्रयंबेकेश्‍वर मंदिर , पंचवटी, सीता गुफा,  कालाराम  मंदिर .

हंपी- अंजानाद्री पहाड़ी,  विरुपक्षा मंदिर और विट्टल मंदिर.

रामेश्‍वरम- रामनाथस्‍वामी मंदिर और धनुषकोठी.

कांचीपुरम- विष्‍णु कांची, शिवा कांची और कामाक्षी अम्‍मान मंदिर.

भद्राचलम- श्री सीताराम स्‍वामी मंदिर, अंजनी स्‍वामी मंदिर

Tags: Indian railway, Indian Railway news, Indian Railways, Irctc, Train



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments