वाराणसी के बाबा विश्वनाथ मंदिर के प्रसाद से महिलाओं की किस्मत चमकी, बनीं आत्मनिर्भर – kashi vishwanath dham prasad has changed fortunes of 24 women of banaras as they have become self reliant – News18 हिंदी

0
12


वाराणसी. धार्मिक नगरी वाराणसी के बाबा विश्वनाथ मंदिर के प्रसाद में चमत्कार है… यह बात आपने भी जरूर सुनी होंगी. लेकिन न्यूज़ 18 लोकल आज उस चमत्कार की कहानी बताने जा रहा है जिसके कारण एक दो नहीं बल्कि 24 महिलाओं की किस्मत चमक गई. बनारस की यह 24 महिलाएं आज बाबा विश्वनाथ के इस प्रसाद के कारण न सिर्फ आत्मनिर्भर बनी हैं बल्कि अच्छी खासी कमाई कर अपना परिवार भी चला रही हैं.

दरअसल, तीन साल पहले विश्वनाथ धाम के बाहर बाबा के नाम पर बिकने वाले प्रसाद की शुद्धता और क्वालिटी को लेकर मंदिर प्रशासन तक कई बार शिकायतें आती थीं. जिसके बाद श्री काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास की तरफ से बाबा के महाप्रसाद को शुद्धता के साथ तैयार करने की जिम्मेदारी ग्रामीण महिलाओं के एक समूह को दी गई. जिस वक्त यह शुरुआत हुई, उस समय प्रसाद की खपत महज कुछ किलो थी, लेकिन अब बाबा विश्वनाथ के नए भव्य धाम के बाद भक्तों की संख्या बढ़ने से इसकी मांग में काफी बढ़ोतरी हुई है. इसके कारण इस प्रसाद को तैयार करने वाली 24 महिलाएं अब कर्मचारी से व्यापारी बन गई हैं.

हर रोज 2 क्विंटल से ज्यादा प्रसाद की खपत
महिला समूह की अध्यक्ष सुनीता जायसवाल ने बताया कि अब हर दिन लगभग दो से तीन क्विंटल प्रसाद की खपत हो रही है. इसे हम 24 महिलाएं मिल कर पूरे दिन तैयार करती हैं. प्रसाद की डिमांड बढ़ने के कारण अब इन महिलाओं के आय में भी वृद्धि हुई है. बता दें कि, इससे यह महिलाएं अब प्रतिदिन 500 से 800 रुपये कमा रही हैं. सोनी देवी ने बताया कि बाबा के इस महाप्रसाद ने उनकी किस्मत बदल दी है.

इन चीजों से तैयार होता है प्रसाद
बाबा विश्वनाथ मंदिर के इस महाप्रसाद को आटा, देशी घी, बादाम के मिश्रण से बनाया जाता है. इसे बनाने में महिलाएं शुद्धता का पूरा ख्याल रखती हैं. बाबा के प्रसाद के लिए मंदिर में जगह-जगह काउंटर बनाए गए हैं जिससे श्रद्धालु बाबा का प्रसाद खरीदते हैं.

बता दें कि, बाबा के प्रसाद की कीमत 500 रुपये प्रति किलो है. इसकी कमाई का 20 प्रतिशत हिस्सा विश्वनाथ धाम प्रशासन इन महिलाओं से लेता है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : November 24, 2022, 14:56 IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here