श्रद्धा हत्याकांड: आफताब को हुए जुकाम-बुखार ने डाला था पॉलीग्राफ टेस्ट में खलल, अब दोबारा हुआ शुरू

0
16


नई दिल्ली. श्रद्धा वालकर की हत्या मामले में आरोपी आफताब अमीन पूनावाला की पॉलीग्राफ जांच का दूसरा सत्र बृहस्पतिवार को रोहिणी में फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी (एफएसएल) में शुरू हुआ. अधिकारियों ने बताया कि बुधवार को जांच नहीं हो पायी थी, क्योंकि 28 वर्षीय पूनावाला को बुखार तथा जुकाम था. एफएसएल के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘पुलिस उसे यहां लेकर आई और पॉलीग्राफी जांच की प्रक्रिया शुरू हो गई है.’’ इस जांच में देरी से पूनावाला की नार्को जांच में भी देरी हो गई है.

पॉलीग्राफी जांच में रक्तचाप, नब्ज और सांस की दर जैसी शारीरिक गतिविधियों को रिकॉर्ड किया जाता है और इन आंकड़ों का इस्तेमाल यह पता लगाने में किया जाता है कि व्यक्ति के दिमाग में क्या चल रहा है. वह सच बोल रहा है या नहीं. वहीं, नार्कों जांच में व्यक्ति की आत्मचेतना को कम कर दिया जाता है, ताकि वह खुलकर बोल पाए.

आफताब ने श्रद्धा के शव के किए थे 35 टुकड़े
गौरतलब है कि पूनावाला ने अपनी लिव-इन पार्टनर 27 वर्षीय श्रद्धा वालकर की मई में कथित तौर पर गला दबाकर हत्या कर दी थी. हत्या के बाद उसके शव के 35 टुकड़े कर दिए थे और उन्हें करीब तीन सप्ताह तक दक्षिण दिल्ली के महरौली में अपने घर में 300 लीटर के फ्रिज में रखा था और कई दिनों तक उन्हें शहर के अलग-अलग हिस्सों में फेंका था.

पूनावाला के कई होंगे परीक्षण
पूनावाला को उसके भावनात्मक, शारीरिक और मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य का पता लगाने के लिए कई परीक्षणों से गुजरना होगा. यदि प्रारंभिक जांच में उसे ठीक नहीं पाया जाता है तो नार्को विश्लेषण नहीं किया जा सकता है. पूनावाला की पॉलीग्राफी जांच का पहला सत्र मंगलवार को रोहिणी के एफएसएल में हुआ था. पॉलीग्राफी जांच को ‘लाई डिटेक्टर’ के नाम भी जाना जाता है.

Tags: New Delhi news, Polygraph Test, Shraddha murder case



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here