Saturday, June 25, 2022
Homeदेशसुपरटेक ट्विन टावर को तोड़ने की तारीख पर आज लगेगी मुहर, जानें...

सुपरटेक ट्विन टावर को तोड़ने की तारीख पर आज लगेगी मुहर, जानें प्लान


नोएडा. सुपरटेक ट्विन टावर (Supertech Twin Tower) को लेकर आज एक बड़ी बैठक होने जा रही है. इस बैठक में नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority), टावर तोड़ने के काम में लगी एडिफिस कंपनी और सीबीआरआई समेत आसपास की आरडब्ल्यूओ भी शामिल होंगी. टावर कब और कैसे तोड़े जाएंगे इस पर भी आज मुहर लग सकती है. साथ ही कंपनी से जुड़ी कुछ शिकायतें अथॉरिटी तक पहुंची हैं उन्हें भी उठाया जा सकता है. गौरतलब रहे सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सुपरटेक की एमरॉल्ड योजना के ट्विन टावर को तोड़ने के लिए 28 अगस्त तक का वक्त दिया है. स्थानीय आरडब्ल्यूए (RWA) ने भी कंपनी के काम की वजह से रोज हो रहीं परेशानी बैठक में उठाने की बात कही है.

एडिफिस कंपनी आज यह रिपोर्ट रखेगी सामने

नोएडा अथॉरिटी से जुड़े अफसरों की मानें तो आज सुपरटेक ट्विन टावर तोड़ने के काम में लगी एडिफिस कंपनी कई मामलों पर अपनी रिपोर्ट रखेगी. जिसके तहत टावर के पिलर में होल करने, टावर के चारों और जियो फाइबर टेक्सटाइल और जाली लगाने की प्रगति रिपोर्ट भी रखी जाएगी कि इस संबंध में अब तक कितने फीसद काम हुआ है.

वहीं अन्य काम को लेकर भी नोएड अथॉरिटी कंपनी से प्रगति रिपोर्ट लेगी. आगे का एक्शन प्लान भी कंपनी से लिया जाएगा. अथॉरिटी को कंपनी के बारे में यह भी शिकायत है कि उसने अभी तक स्ट्रक्चरल ऑडिट रिपोर्ट जमा नहीं की है. सुप्रीम कोर्ट ने 28 अगस्त तक का वक्त टावर को गिराने के लिए दिया है. इसी के चलते अथॉरिटी प्रगति रिपोर्ट देखने के बाद टावर को गिराने के लिए तारीख पर मुहर लगाएगी.

टावर टूटने से पहले इस परेशानी का कर रहे सामना

सुपरटेक ट्विन टावर से जुड़ी इस बड़ी बैठक में स्थानीय आरडब्ल्यूए को भी अपनी बात रखने का मौका दिया जाएगा. आरडब्ल्यूए का कहना है कि सुपरटेक ट्विन टावर में जो काम चल रहा है उससे धूल उड़ती रहती है. वहीं आने-जाने के कुछ रास्ते भी बंद कर दिए गए हैं. इसके चलते सोसाइटियों में रहने वालों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. आरडब्ल्यूए इस तरह की शिकायमें नोएडा अथॉरिटी में भी कर चुके हैं. चर्चा है कि अथॉरिटी यह शिकायतें आज की बैठक में भी उठा सकती है. साथ ही संबंधित बिल्डर और एडिफिस कंपनी से इस पर जवाब-तलब भी कर सकती है.

नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बीच शुरू हुआ एक और एक्सप्रेसवे का काम, जानें प्लान

बिल्डिंग में वी शेप के होल कर ऐसे लगाया जाएगा एक्सप्लोसिव

विस्फोटक भरे जाते हैं. कॉलम और बीम को वी शेप में काटा जाता है. फिर उसके अंदर विस्फोटक की छड़ रख दी जाती है. विस्फोटक ग्राउंड फ्लोर से लेकर 1 और 2 फ्लोर तक तो लगातार विस्फोटक रखा जाता है. लेकिन उसके बाद 4-4 फ्लोर का गैप देकर जैसे दूसरे के बाद 6 पर और 6 क बाद 10, 14, 18 और 22वें जानकारों की मानें तो किसी भी हाईराइज बिल्डिंग को गिराने के लिए उसके कॉलम और बीम में फ्लोर पर विस्फोटक भरा जाएगा. सूत्रों की मानें तो इसके लिए पूरी बिल्डिंग में करीब 7 हजार छेद किए जाएंगे.

ट्विन टावर गिराने से पहले कंपनी कर रही है यह 6 बड़े काम

ट्विन टावर के आसपास मौजूद कुछ टावर्स का 100 करोड़ रुपये का बीमा कराया गया है.

ट्विन टावर और अन्य टावर्स के बीच कंटेनर की दीवार बनाई जाएगी, जिससे मलबा उन पर न गिरे.

जीओ फाइबर क्लाथ का जाल लगाया जाएगा. इससे तेज आवाज और धूल दूसरे टावर्स तक नहीं जाएगी.

आसपास के टावर्स की वाइब्रेशन क्षमता और विस्फोट के वाइब्रेशन की जांच की गई है.

धूल के गुबार से बचाने के लिए फायर टेंडर और हेलीकॉप्टर से पानी छिड़कने में मदद ली जा सकती है.

22 मई विस्फोट वाले दिन एमरॉल्ड टावर खाली कराने के साथ पार्किंग भी खाली कराई जाएंगी.

Tags: Noida Authority, Supertech twin tower, Supreme court of india



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments