Thursday, June 30, 2022
HomeदेशModi@8: पीएम मोदी की नीतियों ने रक्षा क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर...

Modi@8: पीएम मोदी की नीतियों ने रक्षा क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाया, रोजगार के नए अवसर भी बढ़ाए


नई दिल्‍ली. भारत को अब तक दुनिया के रक्षा उपकरणों के सबसे बड़े आयातक देश के तौर पर जाना जाता था, विश्व के आयातक देशों की सूची में भारत का स्थान सऊदी अरब के पश्चात दूसरा है.  लेकिन हालिया दिनों में पीएम नरेंद्र मोदी ( Prime Minister Narendra Modi )  के नेतृत्व में अब भारत, रक्षा उपकरणों के निर्यात के मामले में दुनिया के शीर्ष 25 देशों की सूची में शामिल हो गया है.

भारत ने यह बनाई रणनीति  

पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार ने रक्षा उपकरणों के निर्यात को बढ़ाने के लिए कई क्रांतिकारी कदम उठाए है. इसके तहत केंद्र सरकार ने अगस्त-2020 में आत्मनिर्भर भारत (Aatmanirbhar Bharat) योजना के अंतर्गत 101 रक्षा उपकरणों के आयात पर रोक लगा दी है. केंद्र सरकार ने 209 रक्षा उपकरणों की एक सूची भी बनाई है जिसके आयात को समयबद्ध तरीके से खत्म कर दिया जाएगा. भारत में ही निर्माण के लिए 460 से अधिक लाइसेंस जारी किए हैं.  रक्षा उपकरणों का उत्पादन करने वाली कम्पनियों में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की सीमा को बढ़ाकर 74 प्रतिशत कर दिया गया है. इसके साथ ही सरकारी रक्षा कंपनियों को वित्तीय वर्ष 2023 तक अपने कुल राजस्व का 25 प्रतिशत हिस्सा, निर्यात के माध्यम से प्राप्त करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है.

केंद्र सरकार ने स्वदेशी मिसाइल आकाश के निर्यात को मंजूरी दी

इसके साथ ही 2022-23 के बजट में रक्षा बजट पर खर्च की जाने वाली कुल राशि का 68 प्रतिशत भाग देश में ही उत्पादित रक्षा उपकरणों पर खर्च किए जाने  की व्यवस्था की गई. 30 दिसम्बर 2020 को आत्म निर्भर भारत योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार ने स्वदेशी मिसाइल आकाश के निर्यात को मंजूरी दी. इसका परिणाम यह हुआ कि दक्षिणपूर्व एशियाई देश वियतनाम, इंडोनेशिया, फिलिपींस के बहरीन, केन्या, सउदी अरब, मिस्र, अल्जीरिया संयुक्त अरब अमीरात आदि देशों से आकाश मिसाइल को खरीदने को लेकर बातचीत चल रही  है.इनके साथ ही फिलीपींस, वियतनाम इंडोनेशिया,सउदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, दक्षिण अफ्रीका आदि देशों से भारत की ब्रह्मोस मिशाइल की खरीदी को लेकर चर्चा हो रही है. इसके साथ ही मोदी सरकार ने कई डिफेंस कॉरिडोर को बढ़ावा दिया.

पिछले 7 वर्षों के दौरान भारत ने 38,000 करोड़ रुपए के रक्षा उपकरणों का निर्यात किया

रक्षा मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार भारत ने 2017 में 1521 करोड़ रुपए के रक्षा उपकरणों का निर्यात किया था जो 2018 में 4682 करोड़ रुपए का रहा और  2019 में बढ़कर 10,745 करोड़ रुपए के स्तर पर पहुंच गया था. पिछले 7 वर्षों के दौरान भारत ने 38,000 करोड़ रुपए के रक्षा उपकरणों का निर्यात 84 से अधिक देशों को किया है.  इसके साथ ही वित्तीय वर्ष 2024-25 तक एयरोस्पेस, रक्षा सामान और सेवाओं में 35,000 करोड़ रुपये के निर्यात का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. इससे देश मे अर्थव्यवस्था के विकास के साथ साथ रोजगार में भी बढ़ोतरी होगी.

जानकारों ने कह दी यह बात 

एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ डिफेन्स एंड स्ट्रेटेजिक स्टडीज के सौरभ मिश्रा का मानना है कि व्यवहारिक दृष्टिकोण से यह एक अच्छी बात है, परंतु भारत को हथियार निर्यातक होने की चुनौतियों से सचेत भी रहना होगा. बीजेपी के युवा नेता जयराम विप्लव का कहना है कि भारत की गिनती विश्वशक्ति के रूप में हो रही है और रक्षा और अनुसंधान क्षेत्र में हमारी उपलब्धियों की इसमें महत्वपूर्ण भूमिका है. मोदी सरकार के कार्यकाल में रक्षा बजट पर दोगुने से अधिक खर्च होने के साथ साथ ‘आत्मनिर्भर भारत ‘ और ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम ने देश को रक्षा हथियारों का निर्यातक बनाया है. भारत की सुरक्षा के साथ ही यह विश्व में भारत की धाक को बढाने वाला कदम है.  इससे भारत का विदेशी मुद्रा भंडार भी बढ़ेगा, स्थानीय रोजगार भी बढ़ेगा और अर्थव्यवस्था की मजबूती में लाभ मिलेगा.

Tags: Aatmanirbhar Bharat, Prime Minister Narendra Modi



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments