Thursday, June 30, 2022
HomeदेशOPINION: पहचान और परंपरा से जुड़ने की पीएम मोदी की पॉजिटिव सोच का...

OPINION: पहचान और परंपरा से जुड़ने की पीएम मोदी की पॉजिटिव सोच का नतीजा है अंतरराष्ट्रीय योग दिवस


एक कार्यक्रम में पीएम नरेंद्र मोदी (Prime minister Narendra Modi) ने कहा था कि वे जब भी विश्व के किसी भी बड़े नेता से मिलते हैं तो उनसे उनके स्वास्थ्य के बारे में पूछते हैं और साथ ही साथ उनके साथ योग के बारे में चर्चा करते हैं. दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विभिन्न मौकों पर भारतीय परंपरा और संस्कृति के प्रचार प्रसार बात करते हैं और मौका मिलने पर खुद भारतीय परंपरा के सबसे बड़े ब्रांड एंबेसडर बन जाते हैं जिसके तहत वे देश-विदेश के सभी लोगों के साथ योग को ले करके चर्चा करते हैं.

अपनी परंपरा को लेकर के वोकल

पीएम नरेंद्र मोदी भारतीय सभ्यता और परंपरा के साथ-साथ भारतीय प्रोडक्ट को अंतरराष्ट्रीय बनाने की वकालत हमेशा करते रहते हैं. इसके अंतर्गत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने “वोकल फ़ॉर लोकल और ग्लोबल” का नारा दे चुके हैं. यह पीएम नरेंद्र मोदी के भारतीय परंपरा के प्रति विश्वास के साथ साथ इसपर गर्व को भी दरसाता है. पीएम नरेंद्र मोदी विभिन्न मौके पर इसकी चर्चा भी करते रहते हैं. भारतीय प्राचीन परंपरा योग को लेकर भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसका अनुसरण करते रहे हैं.

वैश्विक मंच पर कही यह बात

इसी के तहत पीएम नरेंद्र मोदी ने 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में योग कि महत्ता को लेकर अपने भाषण के दौरान कहा कि योग भारत की प्राचीन परंपरा की अमूल्य देन है, यह मन और शरीर की एकता का प्रतीक है. विचार और क्रिया,संयम और पूर्ति, मनुष्य और प्रकृति के बीच सामंजस्य , स्वास्थ्य और कल्याण के लिए एक समग्र दृष्टिकोण. यह व्यायाम के बारे में नहीं है बल्कि अपने आप को, दुनिया और प्रकृति के साथ एकता की भावना की खोज करने के लिए है.अपनी जीवन शैली को बदलकर और चेतना पैदा करके, यह भलाई में मदद कर सकता है. आइए हम एक अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) को अपनाने की दिशा में काम करें.

आयुष मंत्रालय का किया गठन

पीएम नरेंद्र मोदी ने भारतीय परंपरा और संस्कृति के महत्वपूर्ण घटक योग बढ़ावा देने के लिए 9 नवंबर 2014 को आयुष मंत्रालय का गठन किया. दरसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत की प्राचीन पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों के ज्ञान को पुनर्जीवित करने और स्वास्थ्य देखभाल में आयुष प्रणालियों के प्रयोग विकास और प्रसार को सुनिश्चित करना चाहते थे. इसके तहत भारत की परंपरिक चिकित्सा और स्वास्थ्य प्रणालियों जिसमें आयुर्वेद योग नेचुरोपैथी यूनानी सिद्धा होम्योपैथी आदि शामिल है. पीएम नरेंद्र मोदी इसके साथ ही साथ भारत में मेडिकल टूरिज्म और नेचुरोपैथी टूरिज्म की भी लगातार वकालत और चर्चा करते रहते हैं.

बीजेपी के युवा नेता जयराम का मानना है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भारतीय परंपरा और संस्कृति पर हमेशा से गर्व रहा है और इसी के तहत वे अपनी संस्कृति और परंपरा का प्रचार प्रसार करते हैं. जयराम विप्लव कहते है कि योग का व्यापक और वैश्विक प्रचार प्रसार इसी का हिस्सा है. जयराम विप्लव इस बात को कहने से थोड़ा भी नहीं हिचकते की विश्व में योग सहित ब्रांड इंडिया की जो पहचान बनी है उसमें पीएम नरेंद्र मोदी का सबसे बड़ा योगदान है इसका मुख्य कारण पीएम नरेंद्र मोदी का भारतीय परंपरा और संस्कृति को लेकर के गर्व और पॉजिटिव सोच है.

(डिस्क्लेमर: ये लेखक के निजी विचार हैं. लेख में दी गई किसी भी जानकारी की सत्यता/सटीकता के प्रति लेखक स्वयं जवाबदेह है. इसके लिए News18Hindi किसी भी तरह से उत्तरदायी नहीं है)

Tags: International Yoga Day, Prime Minister Narendra Modi



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments