किसानों ने कलेक्टर को दिया ज्ञापन ना

0
37
गन्ना फसल की मूल्य वृद्धि व गन्ने को अधिसूचित श्रेणी में शामिल किया जाए
गन्ने लेकर किसान पहुंचे कलेक्ट्रेट, सौंपा ज्ञापन
बैतूल। जिले के किसानों द्वारा मुख्यमंत्री के नाम से कृषकों के ज्वलंत तीन मुद्दों पर आधारित एक ज्ञापन कलेक्टर अमनबीर सिंह बैस को सौंपा। किसान अपने साथ गन्ने लेकर आए थे। इस संबंध में कृषक नरेन्द्र पटेल ने बताया कि गन्ना उत्पादक कृषकों को उप्र, पंजाब, हरियाणा, महाराष्ट्र, छग, तमिलनाडु, के किसानों की तरह प्रति क्विंटल 350 से 380 रूपए तक मूल्य नहीं दिया जा रहा है। मप्र का किसान भी बहुतायत से गन्ना का उत्पादन करता है इस प्रदेश का किसान भी यह मांग करता है कि प्रदेश के किसानों को भी गन्ना मूल्य इन प्रदेशों की तुलना में 350 से अधिक दिलवाया जाए। मुख्यमंत्री से ज्ञापन में यह भी मांग की गई है कि सिंचाई के लिए बिजली का जिस तरह पूर्ववत शेड्यूल अनुसार सुबह के बजे से दोपहर 12 बजे तक व दोपहर 12 बजे से शाम 6 बजे तक बिजली दी जाती थी इस बिजली वितरण शेड्यूल से किसान संतुष्ट था। अपनी सिंचाई आवश्यकता है पूरा कर रहा था जिसे बदला गया है जिससे किसानों को अत्याधिक असुविधा का सामना करना पड़ रहा है किसान मांग करते हैं कि बिजली का जो शेड्यूल पूर्व में प्रचलित था उसी के अनुसार किसानों को बिजली प्रदान की जाए। मुख्यमंत्री से ज्ञापन में किसानों के द्वारा यह भी मांग की गई है कि अन्य राज्यों में गन्ना की फसल को भी अधिसूचित फसल माना गया है लेकिन मप्र में गन्ना को अधिसूचित फसल नहीं माना जा रहा है किसानों की यह भी मांग है कि गन्ना को अधिसूचित फसल माना जाकर अधिसूचित फसलों की श्रेणी में रखा जाए। इस अवसर पर नरेन्द्र पटेल, सुदामा हजारे ललित वर्मा राजकुमार हिंगवे, बाबूराव कोशे, अशोक वर्मा, गोविंद हजारे, रमेश वर्मा, राज बहादुर वर्मा, जितेंद्र वर्मा सुरेंद्र वर्मा, भीमराव मकोड़े, महेंद्र वर्मा, सोनू वर्मा, भूपेंद्र वर्मा, बनवारी हजारे, दीपक महतो, लवलेश मेहतो, होने वर्मा, धर्मेंद्र वर्मा,अमित वर्मा, बब्बर वर्मा बल्लू बारस्कर द्वारका मालवीय, मनोहर पवार जितेंद्र वर्मा, जितेंद्र चौधरी, गजानंद वर्मा, हंस कुमार वर्मा, लल्ली वर्मा, ख्यालीराम छेरकी, गणेश साहू, राकेश मेहतो, गजानंद वर्मा, बन्डु बारस्कर, सुखदेव नारे आदि मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here