किसान संघर्ष समिति मुलताई ने प्रधानमंत्री के नाम दिया ज्ञापन

0
33
NTV time ke liye Altaf Ahmad ki report
किसान संघर्ष समिति में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम दिया ज्ञापन
ज्ञापन में बताया गया कि आप जानते हैं कि संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले देश के 550 किसान संगठन द्वारा 365 दिन से तीन किसान विरोधी बिल 2020 वापस लेने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन आंदोलन किया जा रहा है आंदोलन में अब तक 683 किसान शहीद हो चुके हैं गत 1 वर्ष में संयुक्त किसान मोर्चा के आवाहन पर मध्य प्रदेश के लगभग सभी जिलों में इन मांगों को लेकर कई बार विरोध प्रदर्शन और आंदोलन किए गए हैं और प्रधानमंत्री जी से कहा कि आपकी सरकार ने किसानों से 11 दौर की वार्ता के बाद विपक्षी समाधान की वजह से एकतरफा घोषणा का रास्ता चुना है हम तीनों कृषि कानून वापसी की आपसे घोषणा का स्वागत करते हैं जो अभी संसद में कानून बनना बाकी है हम आपका ध्यान नियम मुद्दों पर तुरंत कार्रवाई हेतु आकर्षित करते हैं
किसानों ने अपने मुद्दे कुछ इस तरह गिनाए
1किसान विरोधी तीनों काले कानून को रद्द करने का प्रस्ताव जल्द ही संसद से पास कराया जाए
2 सभी फसलों की लागत का डेढ़ गुना दाम सी – 2 प्लस 50% पर खरीद की कानूनी गारंटी दी जाए
3 बिजली बिल विधेयक 2020 को वापस लिया जाए
4 लखीमपुर खीरी घटना के लिए जिम्मेदार केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा ट्रेनी को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर गिरफ्तार किया जाए
5 किसान आंदोलन में 683 शहीद हुए किसानों को शहीद का दर्जा दिया जाए सांसद में उन्हें श्रद्धांजलि दी जाए तथा सिंधु बॉर्डर पर शहीद किसानों की स्मृति में शहीद स्मारक बनाने के लिए जमीन दी जाए
6 शहीद परिवार को एक करोड़ का मुआवजा एवं सरकारी नौकरी दी जाए
7 किसान आंदोलन में किसानों पर दर्ज किए गए सभी मुकदमे वापस लिए जाएं एवं जेल में भेजे गए आंदोलनकारियों को मुआवजा दिया जाए
8 खाद की कालाबाजारी पर रोक लगाई जाए किसानों को पर्याप्त खाद का आवंटन तथा सस्ती दर पर असली खाद बीज किसानों को मुहैया किया जाए
10 समर्थन मूल्य पर सभी किसानों से उपज की खरीद की जाए
11 सिंचाई हेतु लगातार 10 घंटे बिजली दी जाए
और किसानों ने अपने ज्ञापन के माध्यम से कहा कि आप से अनुरोध है कि उक्त मुद्दों पर संसद के शीतकालीन सत्र में चर्चा कर सभी समस्याओं के निराकरण के लिए संयुक्त किसान मोर्चा से बात की जाए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here