खबर पांढुर्ना

0
36

त्यौहार को देखते ही खाद्य विभाग होता है एक्टिव और नगर में केवल 5 प्रतिष्ठानों के लिए गए नमूने।

NTV पांढुरना पांढुर्णा से अल्ताफ अहमद के साथ प्रवीण निभाने की रिपोर्ट
पांढुरना:-दिवाली के त्यौहार को देखते हुए खाद सुरक्षा विभाग की टीम ने शहर में छापेमार कार्रवाई को अंजाम दिया है। विभाग द्वारा अचानक की गई कार्रवाई से मावा विक्रेताओं में हड़कंप मच गया। प्राप्त जानकारी के अनुसार पूरे शहर में से करीब 5 दुकान पर कार्यवाही के दौरान 4 नमूने जांच के लिए लिए गए जिसकी चर्चा शहर में ऐसे ही की खाद विभाग सिर्फ त्यौहार को मौका बनाकर जांच के लिए आते हैं और बाकी समय नदारद रहते हैं। क्या बाकी समय में खाद्य पदार्थ नहीं बिकते हैं तब जांच क्यों नहीं होती है इसे खाद्य विभाग की सक्रियता कहे या मौके पर चौका मारना कहा जाए। कहां जाए तो जांच के लिए पांढुरना शहर में मिलावटी मामले में हल्दी मिर्ची मसाला से लेकर तेल तक घालमेल के मामले में शहर अव्वल है? जिसके चलते इसका खामियाजा भोली भाली शहर की जनता भुगतती है।
खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि त्योहारी सीजन दीपावली को देखते हुए विभाग द्वारा मिलावटखोरों के खिलाफ अभियान की शुरुआत की है। शहर में मावा विक्रेताओं की दुकानों पर छापेमार कार्रवाई को अंजाम दिया है। 5 प्रतिष्ठान इंदौर सेव भंडार, हरिहर होटल योगेश फूड्स एवं सागर ट्रेडर्स का निरीक्षण कर योगेश फूड्स से खाद्य पदार्थों कुंदा एवं कैडबरी बर्फ़ी तथा सागर ट्रेडर्स से रिफाइंड सोयाबीन तेल के 2 नमूने लिये गये। इस प्रकार कुल 4 नमूने जांच हेतु लिया गया। जिन्हें जांच के लिए लैब भेजा जाएगा। सैंपल में गड़बड़ी पाए जाने पर दोषी व्यापारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सभी खाद्य पदार्थों के कारोबारियों को विधि अनुसार स्वच्छता नियमों एवं कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश दिए गए ।

महाराष्ट की सीमा पर बसे पांढुरना में प्रति दिन महाराष्ट्र से हजारो प्रकार खाद्य मटेरियल का आदान-प्रदान:-
,जिसमे सबसे बड़े प्रमाण में तेल का कारोबार है,बढ़ते मंहगाई को देखते हुए,जहा 1 लीटर के पाउच में अनगिनत ब्राड का तेल नगर के किराना दुकानों में बिक्री हो रही है,पांढुरना तहसील 72 पंचायतों से घिरे होने के साथ जिले से 100 km की दूरी होने के चलते नगर से सैकड़ो अमानकखाद्य वस्तुओं का उपयोग नगर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रो में हो रहा है,नगर में हॉटेल से लेकर किराना प्रतिष्ठानों पर अनेकों प्रकार की वैरायटी के खाद्य पदार्थो की बिक्री कर लाखो की कमाई की जा रही है,इन खाद्य पदार्थो को बिना टेस्ट हुए,अनेकों प्रकार की खाद्य सामग्रियों से जनमानस के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता जा रहा,जिसको देखते हुए क्षेत्र में प्रति सप्ताह खाद्य विभाग की द्वारा नमूने लेकर अमानक खाद्य सामग्री विक्रेता पर कार्यवाही होनी चाहिए,परन्तु केवल त्योहारों पर दस्तक देकर विभाग द्वारा केवल खाना पूर्ति की जा रही है।पांढुरना नगर में खाद्य विभाग टीम द्वारा त्यौहारो के मोक्को पर नगर में दस्तक देकर कुछ मुख्य मार्केट के चुनिदा प्रतिष्ठानों पर छापा मार कार्यवाही कर चार-पांच खाद्य सामग्री का सेंपल लेकर पुनः जिला छिन्दवाड़ा रवाना हो जाते है,फिर सेम्पल का क्या हुआ यह तो दुकानदार एवम खाद्य अधिकारी तक सीमित हो जाता है,परन्तु नगर के मुख्य मार्गो के अलावा नगर के गली कुचों में सैकड़ो किराना से लेकर हॉटेल संचालित हो रहे है,जो खुले-आम संक्रमण को बढ़ावा देने का कार्य कर रहे है।इन दुकानों पर आज तक खाद्य विभाग की टीम ने दस्तक नही दी,जिसके चलते खुलेआम अमानक खाद्य सामग्री बेच कर लाखो रुपयों के वारे न्यारे लगाकर जनता के स्वास्थ से खिलवाड़ करने में लगे है।परन्तु खाद्य विभाग की अनुकम्पा प्राप्त दुकानदार बिना किसी सुरक्षा के खुले आम अमानक खाद्य सामग्रियों को अधिकभाव में बैचकर भोलीभाली जनता के स्वास्थ से खिलवाड़ करने में लगे है।

खाद्य सामग्री को बिना किसी सुरक्षा के खुले आम स्टाल लगाकर ताजे माल के नाम पर बेंच रहे सप्ताह पूर्व बना माल:-
नगर के सैकड़ो नास्ते,स्वीट एवम चाय की दुकाने संचालित हो रही है,जो किसी भी सुरक्षा की दृष्टि उचित नही है,जो एक बार उपयोग किये गए खाद्य तेल का इस्तेमाल करके अनेकों बार उपयोग में लाकर उसी में खाद्य वस्तुओं को तलकर पुनः जनता को कीमती भाव मे बेंच देते है,एक दिन पूर्व बच्चा माल पुनः सुबह वही पुराने तेल में तलकर ताजी गर्मागरम सामग्री के नाम पर बैचने में लगे है।खुले आम रखे खाद्य सामग्री को आने-जाने लोग हाथ लगाकर चैक करते है,गर्म है या ठंडा परन्तु दुकानदार को माल बैचने से मतलब दुकानदारो द्वारा ना ही हात में दस्तानों का उपयोग करता है,ना ही खाद्य सामग्री को ढकने का इन खाद्यान्न भंडारों द्वारा खुले आम जनता को बीमारी परोसी जा रही है।वही खाद्य विभाग त्योहारों के मौको पर खाना पूर्ति कर जनता के स्वास्थ से खिलवाड़ करने में लगी है।जिन्हें सरकार द्वारा खादय सामग्री ज्याच् हेतु गठित कर लाखो की पेमेड प्रदान कर रहा है,वही जनता के स्वास्थ की चिंता छोड़ खुलेआम दूषित खाद्य सामग्री बैचने की खुली छूट को बढ़ावा देने में खाना पूर्ति कर अपनी जिम्मेदारी को साबित करने में लगा है,खाद्य विभाग की टीम नगर में आने से पूर्व कुछ चुनिदा लोगो को पहले ही अवगत करा देते है कि खाद्य विभाग की टीम नगर में दस्तक देने वाली है,और हमेश्या कि तरह खाद्य विभाग की टीम केवल सैम्पल तक सीमित होकर वापस जिला विभाग चली जाती है,इसका खमियाजा नगर की बोली-भाली जनता को भुगतना पड़ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here